Sep 4, 2016 · 1 min read

गजल

“किसी दिन सामने सच बनके आओ।
कभी तुम ख्वाबों के चिलमन हटाओ।
धड़कती है हवाओं में मुहब्बत,
हमारी दास्ताँ उनको सुनाओ।
निकल पाते नहीं जो खुद से बाहर,
है कुछ रूठे हुए उनको हंसाओं।
सुना हर पल बदलती गर्दिशे है,
हमें वो तारों की भाषा बताओ।
भटकती संग है राही के गलियाँ,
उन्हें भी तुम कोई रहबर सुझाओ।
“कभी बंजर न हो दिल की जमी ये,
इन आँखों में नमी तो छोड़ जाओ।
रजनी

194 Views
You may also like:
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:36
AJAY AMITABH SUMAN
नई लीक....
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
।। मेरे तात ।।
Akash Yadav
【21】 *!* क्या आप चंदन हैं ? *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पवनपुत्र, हे ! अंजनि नंदन ....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तप रहे हैं दिन घनेरे / (तपन का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तुझे अपने दिल में बसाना चाहती हूं
Ram Krishan Rastogi
यादें आती हैं
Krishan Singh
रसिया यूक्रेन युद्ध विभीषिका
Ram Krishan Rastogi
मनस धरातल सरक गया है।
Saraswati Bajpai
जो चाहे कर सकता है
Alok kumar Mishra
सच समझ बैठी दिल्लगी को यहाँ।
ananya rai parashar
चांदनी में बैठते हैं।
Taj Mohammad
कविराज
Buddha Prakash
वह मेरे पापा हैं।
Taj Mohammad
# जीत की तलाश #
Dr. Alpa H.
यादों की भूलभुलैया में
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दिल टूट करके।
Taj Mohammad
"चैन से तो मर जाने दो"
रीतू सिंह
एक मसीहा घर में रहता है।
Taj Mohammad
दुनिया पहचाने हमें जाने के बाद...
Dr. Alpa H.
संविधान निर्माता को मेरा नमन
Surabhi bharati
*!* मेरे Idle मुन्शी प्रेमचंद *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
हमारी प्यारी मां
Shriyansh Gupta
"निरक्षर-भारती"
Prabhudayal Raniwal
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
सुमंगल कामना
Dr.sima
कितनी पीड़ा कितने भागीरथी
सूर्यकांत द्विवेदी
प्रकृति का उपहार
Anamika Singh
(((मन नहीं लगता)))
दिनेश एल० "जैहिंद"
Loading...