Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Aug 2022 · 1 min read

गजल सी रचना

वैसे तो हम अक्सर खामोश रहते हैं।
सुनते हैं ज्यादा अपनी कम कहते हैं।।

हम उन बादलों से नहीं ऐ दोस्त, जो।
बरसते कम गरजते ज्यादा रहते हैं।।

आते ही छा जाते हैं जो महफिल में।
हम ऐसी हस्तियों में शामिल रहते हैं।।

लाते हैं मुस्कराहट सबके चेहरों पर।
बात महफिल में इस अदा से कहते हैं।।

कोई कहता दीवाना कोई कहे शायर।
हम सादगी से खुद को मसखरा कहते हैं।।

गम को छुपाये रखते हैं हँस के सीने में।
“कंचन” हम यूं जिंदगी का दर्द सहते हैं।।

रचनाकार :- कंचन खन्ना,
मुरादाबाद, (उ०प्र०, भारत) ।
सर्वाधिकार, सुरक्षित (रचनाकार) ।
दिनांक :- २७/११/२०२१.

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 372 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
संस्कारी नाति (#नेपाली_लघुकथा)
संस्कारी नाति (#नेपाली_लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
शर्म करो
शर्म करो
Sanjay ' शून्य'
■ आज का संदेश
■ आज का संदेश
*Author प्रणय प्रभात*
होली के त्यौहार पर तीन कुण्डलिया
होली के त्यौहार पर तीन कुण्डलिया
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
उपहार
उपहार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
श्रीजन के वास्ते आई है धरती पर वो नारी है।
श्रीजन के वास्ते आई है धरती पर वो नारी है।
Prabhu Nath Chaturvedi
चौथ का चांद
चौथ का चांद
Dr. Seema Varma
2464.पूर्णिका
2464.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
तेरी एक तिरछी नज़र
तेरी एक तिरछी नज़र
DESH RAJ
✍️फिर भी लगाव✍️
✍️फिर भी लगाव✍️
'अशांत' शेखर
कैसे मैं याद करूं
कैसे मैं याद करूं
Anamika Singh
मेरे लिखने से भला क्या होगा कोई पढ़ने वाला तो चाहिए
मेरे लिखने से भला क्या होगा कोई पढ़ने वाला तो चाहिए
DrLakshman Jha Parimal
गरीबी का चेहरा
गरीबी का चेहरा
Dr fauzia Naseem shad
आस का दीपक
आस का दीपक
Rekha Drolia
भारत की देख शक्ति, दुश्मन भी अब घबराते है।
भारत की देख शक्ति, दुश्मन भी अब घबराते है।
Anil chobisa
*राजा राम सिंह : रामपुर और मुरादाबाद के पितामह*
*राजा राम सिंह : रामपुर और मुरादाबाद के पितामह*
Ravi Prakash
फितरत
फितरत
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
जिंदगी एडजस्टमेंट से ही चलती है / Vishnu Nagar
जिंदगी एडजस्टमेंट से ही चलती है / Vishnu Nagar
Dr MusafiR BaithA
जिंदगी का एकाकीपन
जिंदगी का एकाकीपन
मनोज कर्ण
RATHOD SRAVAN WAS GREAT HONORED
RATHOD SRAVAN WAS GREAT HONORED
राठौड़ श्रावण लेखक, प्रध्यापक
"किरायेदार"
Dr. Kishan tandon kranti
गया दौरे-जवानी गया गया तो गया
गया दौरे-जवानी गया गया तो गया
shabina. Naaz
आसमानों को छूने की जद में निकले
आसमानों को छूने की जद में निकले
कवि दीपक बवेजा
सिपाही
सिपाही
Buddha Prakash
मैंने तुझे आमवस के चाँद से पूर्णिमा का चाँद बनाया है।
मैंने तुझे आमवस के चाँद से पूर्णिमा का चाँद बनाया है।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
गुजारे गए कुछ खुशी के पल,
गुजारे गए कुछ खुशी के पल,
Arun B Jain
बसंत ऋतु
बसंत ऋतु
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
अब कुछ बचा नहीं बिकने को बाजार में
अब कुछ बचा नहीं बिकने को बाजार में
Ashish shukla
हे राम हृदय में आ जाओ
हे राम हृदय में आ जाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तुम विद्रोह कब करोगी?
तुम विद्रोह कब करोगी?
Shekhar Chandra Mitra
Loading...