Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

$दोहे

#दोहे

क़ीमत है हर चीज़ की, रख अतिउत्तम ज्ञान।
सही वक़्त दो दे बता, बंद घड़ी भी मान।।

कमियाँ खोज़े बात में, मक्खी कर पहचान।
ज़िस्म ख़ूबसूरत भुला, बैठे ज़ख्म निशान।।

पास हमारे जो रहे, नहीं कदर या मान।
दूर हुआ तो मानते, उसको बड़ा महान।।

दुख में देता साथ जो, सच्चा होता मीत।
सुख में सब साथ दें, गाएँ हँस-यश गीत।।

नीर नयन भरकर दिखे, धुँधली सुंदर चीज़।
सही नज़र से देखिये, होगी खास अज़ीज़।।

बोल बड़े मत बोलिये, समय बड़ा बलवान।
राजा को ये रंक कर, तोड़े दंभ गुमान।।

चार दिनों की ज़िंदगी, हँसकर जीना यार।
घुटकर जीना नरक सा, क़दमों नीचे ख़ार।।

भेदभाव की ज़िंदगी, मानवता की हार।
तुच्छ कर्म को देखकर, रब भी रूठे यार।।

ग़म के पीछे है ख़ुशी, रात बाद ज्यों भौर।
हँसके करना कर्म हर, बीते संकट दौर।।

दृष्टिकोण का खेल है, सुख दुख की हर बात।
स्वर्ग धरा पर देखिये, समता रखकर तात।।

#आर.एस. ‘प्रीतम’

211 Views
You may also like:
वक्त
AMRESH KUMAR VERMA
आलिंगन हो जानें दो।
Taj Mohammad
#udhas#alone#aloneboy#brokenheart
Dalvir Singh
वार्तालाप….
Piyush Goel
पराधीन पक्षी की सोच
AMRESH KUMAR VERMA
साहित्यकारों से
Rakesh Pathak Kathara
बूँद-बूँद को तरसा गाँव
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अंदाज़ ही निराला है।
Taj Mohammad
चाँद ने कहा
कुमार अविनाश केसर
मुकरियां __नींद
Manu Vashistha
बेजुवान मित्र
AMRESH KUMAR VERMA
Motivation ! Motivation ! Motivation !
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अब तो इतवार भी
Krishan Singh
क्या करें हम भुला नहीं पाते तुम्हे
VINOD KUMAR CHAUHAN
बिल्ली हारी
Jatashankar Prajapati
🔥😊 तेरे प्यार ने
N.ksahu0007@writer
तरबूज का हाल
श्री रमण
ये दिल धड़कता नही अब तुम्हारे बिना
Ram Krishan Rastogi
कोई हमारा ना हुआ।
Taj Mohammad
💐प्रेम की राह पर-33💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ये कैसा धर्मयुद्ध है केशव (युधिष्ठर संताप )
VINOD KUMAR CHAUHAN
सैनिक
AMRESH KUMAR VERMA
सरस्वती कविता
Ankit Halke jha Official's
गुम होता अस्तित्व भाभी, दामाद, जीजा जी, पुत्र वधू का
Dr Meenu Poonia
सुनो ! हे राम ! मैं तुम्हारा परित्याग करती हूँ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
【6】** माँ **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
रमेश कुमार जैन ,उनकी पत्रिका रजत और विशाल आयोजन
Ravi Prakash
मैं पिता हूँ
सूर्यकांत द्विवेदी
वो कहते हैं ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
"दोस्त-दोस्ती और पल"
Lohit Tamta
Loading...