Sep 24, 2016 · 1 min read

गजल-क्यों आज सक की निगाहो से देखते हो/मंदीप

क्यों आज सक की निगाहो से देखते हो/मंदीप्

क्यों आज सक की निगाहो से देखते हो,
ये दिल तुम्हारा है क्यों विस्वास नही करते हो।

आज फिर से आ गए मेरी आँखो में आँसु,
क्यों इन आँसुओ को पानी समझते हो।

राते हो गई छोटी तुम्हारी याद में,
क्यों हमारी महोबत का इम्तहान लेते हो।

छोड़ दिया सब कुछ उसकी चाहत में,
क्यों हमारे प्यार को झूठा समझते हो।

बदनाम हो गया “मंदीप” तेरे शहर में,
फिर क्यों उसकी सच्ची महोबत का मजाक उड़ाते हो।

मंदीपसाई

165 Views
You may also like:
बे-पर्दे का हुस्न।
Taj Mohammad
खुद को तुम पहचानों नारी ( भाग १)
Anamika Singh
क्यों सत अंतस दृश्य नहीं?
AJAY AMITABH SUMAN
पिता अम्बर हैं इस धारा का
Nitu Sah
ममता की फुलवारी माँ हमारी
Dr. Alpa H.
ईद
Khushboo Khatoon
रावण - विभीषण संवाद (मेरी कल्पना)
Anamika Singh
चेहरा तुम्हारा।
Taj Mohammad
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बेबसी
Varsha Chaurasiya
स्मृति चिन्ह
Shyam Sundar Subramanian
पिता
Deepali Kalra
तेरे संग...
Dr. Alpa H.
बंद हैं भारत में विद्यालय.
Pt. Brajesh Kumar Nayak
उम्मीद से भरा
Dr.sima
💐आत्म साक्षात्कार💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
-:फूल:-
VINOD KUMAR CHAUHAN
मै जलियांवाला बाग बोल रहा हूं
Ram Krishan Rastogi
इश्क नज़रों के सामने जवां होता है।
Taj Mohammad
✍️🌺प्रेम की राह पर-46🌺✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
छुट्टी वाले दिन...♡
Dr. Alpa H.
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण
ऊपज
Mahender Singh Hans
रसीला आम
Buddha Prakash
पिता
Dr. Kishan Karigar
गँवईयत अच्छी लगी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बाबूजी! आती याद
श्री रमण
खिले रहने का ही संदेश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
भोपाल गैस काण्ड
Shriyansh Gupta
फिर कभी तुम्हें मैं चाहकर देखूंगा.............
Nasib Sabharwal
Loading...