Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jul 25, 2016 · 1 min read

गगन में टूटता तारा दिखा है

गगन में टूटता तारा दिखा है
किसी की आस का दीपक जला है

महक कर नाचता ये डालियों पर
हवा ने फूल से क्या कह दिया है

लगा है नाचने अब मोर मन का
घिरी फिर सावनी देखो घटा है

बदलता वक़्त रहता चाल अपनी
तभी तो ज़िन्दगी कहते जुआ है

चला जाता अमावस सौंप इसको
हमेशा चाँद ही कब रात का है

गया है टूट इतना ‘अर्चना’ दिल
कि लेना साँस भी लगती सजा है

डॉ अर्चना गुप्ता

2 Comments · 303 Views
You may also like:
जीत कर भी जो
Dr fauzia Naseem shad
अबके सावन लौट आओ
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता जी
Rakesh Pathak Kathara
पिता के चरणों को नमन ।
Buddha Prakash
ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी
Dr fauzia Naseem shad
अनमोल राजू
Anamika Singh
आपकी तारीफ
Dr fauzia Naseem shad
घनाक्षरी छंद
शेख़ जाफ़र खान
दर्द की हम दवा
Dr fauzia Naseem shad
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
गांव शहर और हम ( कर्मण्य)
Shyam Pandey
"समय का पहिया"
Ajit Kumar "Karn"
एसजेवीएन - बढ़ते कदम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पहाड़ों की रानी शिमला
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
'बाबूजी' एक पिता
पंकज कुमार कर्ण
✍️स्कूल टाइम ✍️
Vaishnavi Gupta
मेरी लेखनी
Anamika Singh
क्या लगा आपको आप छोड़कर जाओगे,
Vaishnavi Gupta
चुनिंदा अशआर
Dr fauzia Naseem shad
वाक्य से पोथी पढ़
शेख़ जाफ़र खान
वरिष्ठ गीतकार स्व.शिवकुमार अर्चन को समर्पित श्रद्धांजलि नवगीत
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेरे पापा
Anamika Singh
तप रहे हैं प्राण भी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
थोड़ी सी कसक
Dr fauzia Naseem shad
हमको जो समझे हमीं सा ।
Dr fauzia Naseem shad
भूखे पेट न सोए कोई ।
Buddha Prakash
दो जून की रोटी उसे मयस्सर
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️लक्ष्य ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️पढ़ना ही पड़ेगा ✍️
Vaishnavi Gupta
लकड़ी में लड़की / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...