Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jan 2022 · 1 min read

गगन के चांद तारों ने, मुझे रोशन किया इक दिन।

गज़ल
1222……1222…..1222…..1222
गगन के चांद तारों ने, मुझे रोशन किया इक दिन।
खुदाया मेरी किस्मत है, तुम्हें मैं पा सका इक दिन।

खताएं मैंने कीं जीवन में, पर सबसे हंसी वो थी,
जो मैंने तुमसे की थी, प्यार करने की खता इक दिन।

मैं जीवन के बियाबां में, अकेला ही भटकता था,
तुम्हारा साथ पाकर ही, हुआ शादी शुदा इक दिन।

तुम्हारे इश्क की पीता रहा, मय जानकर ये ही,
कि मुझ पर रंग लायेगा, तुम्हारा ही नशा इक दिन।

मुझे आती नहीं है नींद, तुमसे दूर रहकर के,
न जाने कैसे होंगे या खुदा, तुमसे जुदा इक दिन।

दवा देता वही जो दर्द को महसूस करता हो,
हमारे दर्दे दिल की, दी थी, तुमने ही दवा इक दिन।

जहां मिलते हैं दो प्रेमी, वो जन्नत सी जगह होती,
वहां पर फूल खिलते हैं, महकती है वफा इक दिन।

……..✍️ प्रेमी

237 Views
You may also like:
"आया रे बुढ़ापा"
Dr Meenu Poonia
मजदूरों वही हाल,, तो क्या नया साल,,
मजदूरों वही हाल,, तो क्या नया साल,,
मानक लाल"मनु"
जहां पर रब नही है
जहां पर रब नही है
अनूप अम्बर
■ एक गुज़ारिश
■ एक गुज़ारिश
*Author प्रणय प्रभात*
वृक्ष बोल उठे..!
वृक्ष बोल उठे..!
Prabhudayal Raniwal
दूरियां किसको रास आती हैं
दूरियां किसको रास आती हैं
Dr fauzia Naseem shad
ये इत्र सी स्त्रियां !!
ये इत्र सी स्त्रियां !!
Dr. Nisha Mathur
🌺✍️मेरे क़रार की अहमियत समझो✍️🌺
🌺✍️मेरे क़रार की अहमियत समझो✍️🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आसमान से ऊपर और जमीं के नीचे
आसमान से ऊपर और जमीं के नीचे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नियत
नियत
Shutisha Rajput
हिन्दू धर्म और अवतारवाद
हिन्दू धर्म और अवतारवाद
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
क्या मैं थी
क्या मैं थी
Surinder blackpen
मैंने  देखा  ख्वाब में  दूर  से  एक  चांद  निकलता  हुआ
मैंने देखा ख्वाब में दूर से एक चांद निकलता हुआ
shabina. Naaz
मैं उसी पल मर जाऊंगा ,
मैं उसी पल मर जाऊंगा ,
श्याम सिंह बिष्ट
गरिमामय प्रतिफल
गरिमामय प्रतिफल
Shyam Sundar Subramanian
जगदम्बा के स्वागत में आँखें बिछायेंगे।
जगदम्बा के स्वागत में आँखें बिछायेंगे।
Manisha Manjari
प्रणय 7
प्रणय 7
Ankita Patel
दोहा
दोहा
प्रीतम श्रावस्तवी
द्रौपदी चीर हरण
द्रौपदी चीर हरण
Ravi Yadav
बाधाओं से लड़ना होगा
बाधाओं से लड़ना होगा
दशरथ रांकावत 'शक्ति'
हुआ बुद्ध धम्म उजागर ।
हुआ बुद्ध धम्म उजागर ।
Buddha Prakash
मुहब्बत का ईनाम क्यों दे दिया।
मुहब्बत का ईनाम क्यों दे दिया।
सत्य कुमार प्रेमी
ये आग कब बुझेगी?
ये आग कब बुझेगी?
Shekhar Chandra Mitra
हिंदी, सपनों की भाषा
हिंदी, सपनों की भाषा
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
तुझ में जो खो गया है वह मंज़र तलाश कर। बाहर जो ना मिले उसे अंदर तलाश कर।
तुझ में जो खो गया है वह मंज़र तलाश कर।...
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
बाल कहानी- टीना और तोता
बाल कहानी- टीना और तोता
SHAMA PARVEEN
*तीन माह की प्यारी गुड़िया (बाल कविता)*
*तीन माह की प्यारी गुड़िया (बाल कविता)*
Ravi Prakash
हिचकियां
हिचकियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अर्थपुराण
अर्थपुराण
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वतन
वतन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...