Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 9, 2022 · 1 min read

गंगा से है प्रेमभाव गर

गंगा से है प्रेमभाव गर अरे गंगा को मन में उतार लो
शुद्ध कर्म अपनाकर सारे गंगा अपने मन में धार लो
गंगा से है प्रेमभाव गर…………..
क्या होगा गंगा नहाकर मैल नहीं मन का जो धोया
क्या होगा तीर्थ करके जो अय्याशी में जीवन खोया
बुरे भाव त्याग कर सारे जीवन अपने को संवार लो
गंगा से है प्रेमभाव गर…………..
गंगा नहाकर पाप कटे तो सड़ते क्यों कैदी जेलों में
बीच रास्तों में नहीं होते कभी हादसे यूँ बस,रेलों में
रखो शुद्ध आत्मा अपनी वाणी में ही गंगा उतार लो
गंगा से है प्रेमभाव गर……………
दीन दुखी के कष्ट हरो सेवा का भाव दिखाना है तो
मात-पिता की सेवा कर लो पितृ दोष मिटाना है तो
घर में बहे त्रिवेणी”विनोद”जब चाहे डुबकी मार लो
गंगा से है प्रेमभाव गर…………….
( हर हर गंगे नमामी गंगे )
( कविता में सिर्फ भाव परोसे गए हैं किसी की श्रद्धा को ठेस पंहुचाने का इरादा नहीं रखते🙏🙏श्रद्धा और अच्छाई सांझा रखिए )

2 Likes · 78 Views
You may also like:
✍️✍️हौंसला✍️✍️
'अशांत' शेखर
🌺🌺मूले वयं परमात्मनः अंशः🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मैं और मांझी
Saraswati Bajpai
इस तरह से
Dr fauzia Naseem shad
*हर घर तिरंगा (गीतिका)*
Ravi Prakash
राजनेता
Aditya Prakash
समाजसेवा
Kanchan Khanna
चाहत
Lohit Tamta
अश्रु देकर खुद दिल बहलाऊं अरे मैं ऐसा इंसान नहीं
VINOD KUMAR CHAUHAN
जिन्दगी और सपने
Anamika Singh
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
गुलिस्तां
Alok Saxena
सिद्धार्थ से वह 'बुद्ध' बने...
Buddha Prakash
तुम निष्ठुर भूल गये हम को, अब कौन विधा यह...
संजीव शुक्ल 'सचिन'
✍️शान से रहते है✍️
'अशांत' शेखर
न झुकेगे हम
AMRESH KUMAR VERMA
Love song
श्याम सिंह बिष्ट
✍️मैं काश हो गया..✍️
'अशांत' शेखर
बुरी आदत की तरह।
Taj Mohammad
*#आलू_जिंदाबाद (#हास्य_व्यंग्य)*
Ravi Prakash
ब्राउनी (पिटबुल डॉग) की पीड़ा
ओनिका सेतिया 'अनु '
पिता
अवध किशोर 'अवधू'
हवस
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
आन के जियान कके
अवध किशोर 'अवधू'
राहों के कांटे हटाते ही रहें।
सत्य कुमार प्रेमी
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
दौर-ए-सफर
DESH RAJ
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
श्री रमण 'श्रीपद्'
ज़िंदगी का सवाल होते हैं ।
Dr fauzia Naseem shad
पेड़ पौधों के बीच में
जगदीश लववंशी
Loading...