Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#28 Trending Author
Jun 17, 2022 · 1 min read

गंगा माँ

शिव के जटा से निकलकर जब
गंगा आती है धरती के द्वार
न जानें कितने जीवन के लिए
खोल देती के खुशियों के द्वार।

कल – कल करती जब बहती है
इनकी मस्तानी सी धार
देख इन्हें मन प्रफुलित हो जाता
दिल में उठती खुशियों की बोछार।

छल छ्ल करती जब जाती है गंगा
गाँव ,वन, खेत ,नगर के द्वार
कितने हीं जीवो को देती
जीवन दान का वह आर्शीवाद।

पर्वत की बेटी यह गंगा
सबकी प्यास , बुझाती है
अपने निर्मल पानी से यह
माँ बन धरती का कष्ट हर ले जाती है।

इस धरा को पतित पावन बनाने के लिए
अनगनित लोगों का पाप धोती है गंगा
जिनके जल मे प्रवेश मात्र से
नई उर्जा संचरित हो जाती है
ऐसी है हमारी पतित पावनी माँ गंगा।

पवित्र गंगा की धार में
जीवन उज्जवलित हो जाता है
मन को एक अद्‌भुत सी शक्ति
एक अद्‌भुत सकुन मिल जाता है।

माँ का जितना भी वर्णन करूँ
शब्द कम पर जाते है
माँ गंगा तो माँ है इस धरती की
उनके नाम मात्र से ही
जीवन के सारे कष्ट दूर हो जाते है।

~ अनामिका

3 Likes · 2 Comments · 68 Views
You may also like:
हम है गरीब घर के बेटे
Swami Ganganiya
मयखाने
Vikas Sharma'Shivaaya'
अपनापन
विजय कुमार अग्रवाल
सारे ही चेहरे कातिल हैं।
Taj Mohammad
फास्ट फूड
Utsav Kumar Aarya
सच
दुष्यन्त 'बाबा'
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
न्याय सम्राट अशोक का
AJAY AMITABH SUMAN
आदत
Anamika Singh
" राज "
Dr Meenu Poonia
मेरे दिल का दर्द
Ram Krishan Rastogi
एक नज़म [ बेकायदा ]
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वक्त और दिन
DESH RAJ
धन-दौलत
AMRESH KUMAR VERMA
छोड़ दो बांटना
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आज नहीं तो कल होगा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
मोर के मुकुट वारो
शेख़ जाफ़र खान
पितृ नभो: भव:।
Taj Mohammad
✍️गुनाह की सजा✍️
'अशांत' शेखर
सुनसान राह
AMRESH KUMAR VERMA
नभ के दोनों छोर निलय में –नवगीत
रकमिश सुल्तानपुरी
* आडे तिरछे अनुप्राण *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हाइकु__ पिता
Manu Vashistha
सूरज की पहली किरण
DESH RAJ
दुविधा
Shyam Sundar Subramanian
कलम
Dr Meenu Poonia
तुम हमें तन्हा कर गए
Anamika Singh
मत्तगयंद सवैया ( राखी )
संजीव शुक्ल 'सचिन'
गंगा माँ
Anamika Singh
जुल्फ जब खुलकर बिखर गई
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
Loading...