Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

गंगा दशहरा

गंगा दशहरा पुण्य काल में
मांँ गंगा का अवतरण हुआ,
राजा सगर के प्रपौत्र
भगीरथ का तप सफल हुआ।
भागीरथी की अविरल धारा
गंगोत्री में प्रकट हुई,
हरिद्वार आकर माता फिर
धरती मांँ से लिपट चली।
उत्तर भारत की जीवनधारा,
सदियों से भाग्य विधाता है,
नौ-वहन, सिंचाई, जल-विद्युत,
तीर्थाटन की जन्मदाता है।
उद्योगों से दूषित होती,
जलजीवन खतरे में आया है,
सघन बस्तियों के अस्तित्व पर
संकट का बादल छाया है।
गंगा दशहरा के पुण्य काल में,
यह प्रण हमें लेना होगा,
‘नमामि गंगे’ के संकल्प को
पूर्ण योग से करना होगा।

मौलिक व स्वरचित
श्री रमण
बेगूसराय

6 Likes · 8 Comments · 235 Views
You may also like:
व्यावहारिक सत्य
Shyam Sundar Subramanian
कबीर साहेब की शिक्षाएं
vikash Kumar Nidan
होते हैं कई ऐसे प्रसंग
Dr.Alpa Amin
एक सुबह की किरण
Deepak Baweja
नर्सिंग दिवस पर नमन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
" दिव्य आलोक "
DrLakshman Jha Parimal
✍️हमसे लिपट गये✍️
'अशांत' शेखर
$दोहे- सुबह की सैर पर
आर.एस. 'प्रीतम'
अपनी जिंदगी
Ashok Sundesha
तुमको खुशी मिलती है।
Taj Mohammad
ऐ ज़िन्दगी तुझे
Dr fauzia Naseem shad
पिता के होते कितने ही रूप।
Taj Mohammad
दीये की बाती
सूर्यकांत द्विवेदी
चाह इंसानों की
AMRESH KUMAR VERMA
पानी बरसे मेघ से
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
#किताबों वाली टेबल
Seema Tuhaina
पिता
पूनम झा 'प्रथमा'
जुल्फ जब खुलकर बिखर गई
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
ट्रेजरी का पैसा
Mahendra Rai
सबूत
Dr.Priya Soni Khare
मेरा वजूद
Anamika Singh
माई री [भाग२]
Anamika Singh
दिल भी
Dr fauzia Naseem shad
ख़ामोश अल्फाज़।
Taj Mohammad
दहेज़
आकाश महेशपुरी
चिड़िया का घोंसला
DESH RAJ
प्रकृति
Pt. Brajesh Kumar Nayak
✍️नशा और शौक✍️
'अशांत' शेखर
खुदाई भरी पड़ी है।
Taj Mohammad
विश्व मजदूर दिवस पर दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...