Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jul 2016 · 1 min read

गंगा की गुहार

गंगा की गुहार
***********
हे भागीरथ,
क्यों ले आये मुझे
देवलोक से धरा पर
कर दिया मैला
मेरा स्वच्छ आँचल
आज तरसती हूँ
बहते नीर को
आज संकट में हूँ मैं
मृत्यु निकट है मेरी
ये स्वार्थी मनुष्य
नष्ट कर रहे हैं मुझे
कितनी ही लाशें ढो चुकी मैं
बहुत मैला ढो लिया मैंने
श्वेत जल धारा को
काली गंगा बना दिया
हे भागीरथ
तुम तो लाये थे
अपनों को तारने हेतु
मैंने असंख्यों को तार दिया
अब तो मुझे भी तार दो
इससे पहले कि मैं मिट जाऊं
छोड़ आओ मुझे देवलोक
पुनः आ सकूँ धरा पर
किसी के बुलाने पर
सबको तारने
बचा रहे मेरा अस्तित्व
मेरी पवित्रता
मेरा कल कल बहता जल |

“सन्दीप कुमार”

Language: Hindi
Tag: कविता
4 Comments · 407 Views
You may also like:
सिस्टर
shabina. Naaz
आया सावन - पावन सुहवान
Rj Anand Prajapati
कोई दीपक ऐंसा भी हो / (मुक्तक)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ग़ज़ल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
एक झलक
Er.Navaneet R Shandily
" शौक बड़ी चीज़ है या मजबूरी "
Dr Meenu Poonia
हम पत्थर है
Umender kumar
बटेसर
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
एक मुलाकात
Dr fauzia Naseem shad
हमारे जैसा कोई और....
sangeeta beniwal
हिन्दी हमारी शान है, हिन्दी हमारा मान है।
Dushyant Kumar
दो दिन का प्यार था छोरी , दो दिन में...
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
मनुज शरीरों में भी वंदा, पशुवत जीवन जीता है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
यह कौन सा विधान है
Vishnu Prasad 'panchotiya'
करवा चौथ
Manoj Tanan
दिव्यांग भविष्य की नींव
Rashmi Sanjay
बोलती तस्वीर
राकेश कुमार राठौर
गीत - कौन चितेरा चंचल मन से
Shivkumar Bilagrami
परख किसको है यहां
Seema 'Tu hai na'
दे सहयोग पुरजोर
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
और बदल जाता है मूढ़ मेरा
gurudeenverma198
✍️बुनियाद✍️
'अशांत' शेखर
हमदर्द हो जो सबका मददगार चाहिए।
सत्य कुमार प्रेमी
कहानी *”ममता”* पार्ट-1 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
जातिवाद का ज़हर
Shekhar Chandra Mitra
कुछ बातें जो अनकही हैं...
अमित कुमार
हमारे पापा
Anamika Singh
मैथिली के प्रथम मुस्लिम कवि फजलुर रहमान हाशमी (शख्सियत) -...
श्रीहर्ष आचार्य
फरिश्तों सा कमाल है।
Taj Mohammad
*हृदय की भाव-मंजूषा, न सबके सामने खोलो (मुक्तक)*
Ravi Prakash
Loading...