Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jul 2016 · 1 min read

गंगा का दोषी

गंगा का दोषी
*********
सुनो भागीरथ
गुनाहगार हो तुम
दोषी हो तुम
मुझे मैला करने के
पुरखों को तारा तुमने
मिला दी राख मुझमें
चला दी एक प्रथा सी
जिसको तारना है
बहा दो गंगा में
वो कुछ न बोलेगी
खुद में समा लेगी
जितने भी पाप कर लो
धो आओ गंगा में
वो तो नदी है
ढो ही लेगी सबकुछ
अमृतनीरा थी मैं कभी
तुमने मुझे बना दिया
बहती हुई गन्दी नाली
आज ढोती हूँ
कारखानों का मैला
लाशें और अस्थियाँ
जगह जगह रख दिया
बोझ मेरे सीने पर
बना दिये ऊंचे ऊंचे बाँध
बदल दिया मेरा स्वरुप
कल कल बहते नीर को
बना दिया उथला पानी
मृत्यु शैया पर हूँ मैं
पुकार रही हूँ तुम्हे
मुझे तुम्हारी ज़रुरत है
आ जाओ पुनः धरा पर
और तार दो मुझे भी |
हे भागीरथ तार दो मुझे भी |

“सन्दीप कुमार”

Language: Hindi
Tag: कविता
2 Comments · 364 Views
You may also like:
पाकिस्तान का ख़्वाब देने वाला शायर इक़बाल
Shekhar Chandra Mitra
लाखों सवाल करता वो मौन।
Manisha Manjari
चौबोला छंद (बड़ा उल्लाला) एवं विधाएँ
Subhash Singhai
जिनके पास अखबार नहीं होते
Kaur Surinder
दिल-ए-रहबरी
Mahesh Tiwari 'Ayen'
गृहणी का बुद्धत्व
पूनम कुमारी (आगाज ए दिल)
पन्नें
Abhinay Krishna Prajapati
*जीवन का सार (घनाक्षरी)*
Ravi Prakash
कैसे मुझे गवारा हो
Seema 'Tu hai na'
हे महाकाल, शिव, शंकर।
Taj Mohammad
💐 ग़ुरूर मिट जाएगा💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कितनी महरूमियां रूलाती हैं
Dr fauzia Naseem shad
कौन कहता कि स्वाधीन निज देश है?
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ये निम खामोशी तुम्हारी ( पूर्व प्रधान मंत्री श्री अटल...
ओनिका सेतिया 'अनु '
ये संघर्ष
Ray's Gupta
मातृभूमि
Rj Anand Prajapati
हिंसा की आग 🔥
मनोज कर्ण
पहचान
Anamika Singh
तुम्हीं तो हो ,तुम्हीं हो
Dr.sima
वाणी की देवी वीणापाणी और उनके श्री विगृह का मूक...
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
कर्ण और दुर्योधन की पहली मुलाकात
AJAY AMITABH SUMAN
दो पँक्ति दिल की
N.ksahu0007@writer
ग़ज़ल-ये चेहरा तो नूरानी है
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
तुम्हारे माता-पिता
Saraswati Bajpai
" हाथी गांव "
Dr Meenu Poonia
आपकी तरहां मैं भी
gurudeenverma198
गणेश चतुर्थी
आचार्य श्रीराम पाण्डेय
✍️एक कन्हैयालाल✍️
'अशांत' शेखर
मनुष्यस्य शरीर: तथा परमात्माप्राप्ति:
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Fast Food
Buddha Prakash
Loading...