#16 Trending Author

गँवईयत अच्छी लगी

माँ को न शहर अच्छा लगा न
न शहर की शहरियत अच्छी लगी
वो लौट आई गाँव वाले बेटे के पास
के उसे गाँव की गँवईयत अच्छी लगी

ममता भी माँ से थोड़ी अनजान हो गई
माँ शहर वाले बेटों के यहाँ जब मेहमान हो गई
गाँव वाला बेटा जब ले आया माँ को घर,
तो गलियाँ, खिड़कियां, नीम की छइयाँ
सब के सब मकान हो गईं
माँ को उसके मन की वसीयत अच्छी लगी
वो लौट आई गाँव वाले बेटे के पास
के उसे गाँव की गँवईयत अच्छी लगी

खुदा ने खुद को जब खुद सा बनाना चाहा
उसने ये प्रयोग हर माँ पर आजमाना चाहा
वो जानता था के माँ उससे भी बड़ी है
बस इस बात को दुनिया को बताना चाहा
उसे हर एक दौर में माँ की नीयत अच्छी लगी
वो लौट आई गाँव वाले बेटे के पास
के उसे गाँव की गँवईयत अच्छी लगी

शहर और गाँव का ताल्लुक उसे अब अच्छा नहीं लगता
शहर का बच्चा भी अब उसे बचपने से बच्चा नहीं लगता
उसके कान में मन ने ऐसी बात कह दी के,
न उसे आदमी अच्छा लगा न उसकी कैफियत अच्छी लगी
वो लौट आई गाँव वाले बेटे के पास
के उसे गाँव की गँवईयत अच्छी लगी
-सिद्धार्थ गोरखपुरी

3 Likes · 2 Comments · 57 Views
You may also like:
चार काँधे हों मयस्सर......
अश्क चिरैयाकोटी
💐💐प्रेम की राह पर-19💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरे दिल के करीब,आओगे कब तुम ?
Ram Krishan Rastogi
💐💐तुमसे दिल लगाना रास आ गया है💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बेकार ही रंग लिए।
Taj Mohammad
*बुद्ध पूर्णिमा 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
"महेनत की रोटी"
Dr. Alpa H.
हमारे बाबू जी (पिता जी)
Ramesh Adheer
An abeyance
Aditya Prakash
अभी तुम करलो मनमानियां।
Taj Mohammad
नाथूराम गोडसे
Anamika Singh
सम्मान की निर्वस्त्रता
Manisha Manjari
【21】 *!* क्या आप चंदन हैं ? *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
'हाथी ' बच्चों का साथी
Buddha Prakash
याद आते हैं।
Taj Mohammad
वैश्या का दर्द भरा दास्तान
Anamika Singh
वेदना जब विरह की...
अश्क चिरैयाकोटी
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
तप रहे हैं प्राण भी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
शायद...
Dr. Alpa H.
भगवान सुनता क्यों नहीं ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
पिता
Manisha Manjari
¡~¡ कोयल, बुलबुल और पपीहा ¡~¡
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
कौन किसके बिन अधूरा है
Ram Krishan Rastogi
यदि मेरी पीड़ा पढ़ पाती
Saraswati Bajpai
और कितना धैर्य धरू
Anamika Singh
दिल तड़फ रहा हैं तुमसे बात करने को
Krishan Singh
ईश प्रार्थना
Saraswati Bajpai
विश्व हास्य दिवस
Dr Archana Gupta
Loading...