Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

ख्वाब

कैसे छोड़ दूं , तुम्हे ज़माने से लड़कर पाया है।👍
मैंने ये ख्वाब, नींद से अड़कर पाया है।।।

30 Views
You may also like:
यथार्था,,, दर्पणता,,, सरलता।
Taj Mohammad
# जज्बे सलाम ...
Chinta netam " मन "
चुनौती
AMRESH KUMAR VERMA
तेरा साथ मुझको गवारा नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
जब भी तन्हाईयों में
Dr fauzia Naseem shad
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग३]
Anamika Singh
تیری یادوں کی خوشبو فضا چاہتا ہوں۔
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
$दोहे- सुबह की सैर पर
आर.एस. 'प्रीतम'
फौजी बनना कहाँ आसान है
Anamika Singh
हाथ में खंजर लिए
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
यारों की आवारगी
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
मौसम यह मोहब्बत का बड़ा खुशगवार है
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
ग़म-ए-दिल....
Aditya Prakash
मैं तुम्हारे स्वरूप की बात करता हूँ
gurudeenverma198
काफ़िर जमाना
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
- मेरा प्रेम कागज,कलम व पुस्तक -
bharat gehlot
✍️क़हर✍️
'अशांत' शेखर
बाल कविता —टेडी बेयर
लक्ष्मी सिंह
हम पे सितम था।
Taj Mohammad
✍️झूठा सच✍️
'अशांत' शेखर
दर्द।
Taj Mohammad
जश्न आजादी का
Kanchan Khanna
तप रहे हैं प्राण भी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
क्या प्रात है !
Saraswati Bajpai
तोड़ डालो ये परम्परा
VINOD KUMAR CHAUHAN
न्याय
Vijaykumar Gundal
सच एक दिन
gurudeenverma198
✍️बसेरा✍️
'अशांत' शेखर
अब आ भी जाओ पापाजी
संदीप सागर (चिराग)
बगीचे में फूलों को
Manoj Tanan
Loading...