Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

खो गए हैं रिश्ते नाते

बिक जाते हैं रिश्ते नाते
दुनियावी मोल में
तौलते हैं,
परखते हैं तराजू पे
जाने क्यों वो
अनमोल को
माप देना चाहते हैं
क्या ये साँसों का बंधन है
भावनाओं का ज्वार है जो
मूल्य के आधार पे गढ़ता है
बंधन,
तर्क की आँखों से
तलाशता है आसरा ,
तब चढते हैं
परवान रिश्ते
नहीं तो घोंट देता है,
नोच देता है
आसरे को
क्योंकि उसे वो मान न मिला
वो कर्ण न मिला
तब वो आरजू
वो आशा की छावं न थी
बिक जाते हैं क्यों रिश्ते
यंत्रीकृत माहौल में
खो देते हैं पहचान
मिटा देते हैं आस विश्वास और नेह भी
खो गए हैं रिश्ते नाते
दुनियावी मोल में…

202 Views
You may also like:
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
मैं कुछ कहना चाहता हूं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जो आया है इस जग में वह जाएगा।
Anamika Singh
सपना आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
बेजुबां जीव
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
पत्नि जो कहे,वह सब जायज़ है
Ram Krishan Rastogi
प्यार
Anamika Singh
किसी का होके रह जाना
Dr fauzia Naseem shad
चोट गहरी थी मेरे ज़ख़्मों की
Dr fauzia Naseem shad
# पिता ...
Chinta netam " मन "
हमको जो समझे हमीं सा ।
Dr fauzia Naseem shad
गीत
शेख़ जाफ़र खान
ओ मेरे !....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पवनपुत्र, हे ! अंजनि नंदन ....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जब चलती पुरवइया बयार
श्री रमण 'श्रीपद्'
ग़ज़ल
सुरेखा कादियान 'सृजना'
पिता का सपना
श्री रमण 'श्रीपद्'
काश....! तू मौन ही रहता....
Dr. Pratibha Mahi
*!* दिल तो बच्चा है जी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
✍️बचपन का ज़माना ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️आशिकों के मेले है ✍️
Vaishnavi Gupta
आस
लक्ष्मी सिंह
✍️जिंदगानी ✍️
Vaishnavi Gupta
इंतजार
Anamika Singh
✍️हिसाब ✍️
Vaishnavi Gupta
किसकी पीर सुने ? (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जीवन की दुर्दशा
Dr fauzia Naseem shad
संघर्ष
Sushil chauhan
अब और नहीं सोचो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...