Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 8, 2022 · 1 min read

खोकर के अपनो का विश्वास ।……(भाग- 2)

आज मैं गलती कर बैठी हूँ,
खोकर के अपनो का विश्वास,
परियों सी महलो में रहती,
स्वतन्त्रता का विचरण थी करती,
हर ख्वाहिश पहले भी मिलती,
जिद भी यों ही पूरी होती,
आँसू छल्के पलके न भीगी,
मार्मिक ह्रदय से लुटाते प्यार,
पिता की ऐसी प्यारी बेटी,
‘माँ’ की माँ कहलाये दुलारी बेटी,
समझ न सकी छोटी सी बात,
प्रेम में ऐसी सुध-बुध खो गई,
मुड़ कर न देखी एक बार,
छूटा वह मेरा संसार ।……(3)

आज मैं गलती कर बैठी हूँ,
खोकर के अपनो का विश्वास,
प्रेम को जितने मैं चली थी,
ठुकरा कर कितनों का प्यार,
ऐसा स्वार्थ मुझमें जगा था,
अन्धकार में खो गया जहांँ,
लूटाने आया न धन दौलत,
खंजर से किया पीठ पर वार,
विष दिया घोल ह्रदय में,
छलिया कर गया विश्वास में ह्रास,
कदम मेरे रुके न फिर भी,
बावली सी होकर बह गई ,
मेरी अपनी दुनिया ढ़ह गई,
खो गया मेरा संसार।………..(4)

रचनाकार-
बुद्ध प्रकाश ,
मौदहा हमीरपुर ।

3 Likes · 91 Views
You may also like:
अभी बचपन है इनका
gurudeenverma198
स्वर कटुक हैं / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"मुश्किल वक़्त और दोस्त"
Lohit Tamta
कलम नही लिख पाया
Anamika Singh
दिल की ये आरजू है
श्री रमण 'श्रीपद्'
# निनाद .....
Chinta netam " मन "
बे-पर्दे का हुस्न।
Taj Mohammad
वह मेरे पापा हैं।
Taj Mohammad
✍️चेहरा-ए-नक़्श✍️
'अशांत' शेखर
ज़रूरी नहीं।
Taj Mohammad
अपनी मर्ज़ी के मुताबिक सब हैं
Dr fauzia Naseem shad
✍️कोई मसिहाँ चाहिए..✍️
'अशांत' शेखर
तेरी कातिल नजरो से
Ram Krishan Rastogi
खेत
Buddha Prakash
जब वो कृष्णा मेरे मन की आवाज़ बन जाता है।
Manisha Manjari
कुछ चेहरे खुशियों में भी नम होते हैं।
Taj Mohammad
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
फिर से खो गया है।
Taj Mohammad
✍️टिकमार्क✍️
'अशांत' शेखर
अफसोस-कर्मण्य
Shyam Pandey
नीति प्रकाश : फारसी के प्रसिद्ध कवि शेख सादी द्वारा...
Ravi Prakash
✍️वो भूल गये है...!!✍️
'अशांत' शेखर
✍️दिल बहल जाता है।✍️
'अशांत' शेखर
नवगीत
Mahendra Narayan
सुरज दादा
Anamika Singh
दर्द का अंत
AMRESH KUMAR VERMA
दिल के रिश्ते
Dr fauzia Naseem shad
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
“ मिलकर सबके साथ चलो “
DrLakshman Jha Parimal
*रामभक्त हनुमान (भक्ति गीत)*
Ravi Prakash
Loading...