Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 7, 2022 · 1 min read

खुशियों की रंगोली

बरसो बाद सजी है मन में
खुशियों की रंगोली ।
तन मन रंगे एक से रंग में
आशाएं बनी हमजोली ।
फेंके ऐसे रंग किसी ने
भीग गए सब गात ।
शुष्क मरू सम अन्तस को
ये दी किसने सौगात ।
कब से दुबका था निर्जन में
सहमा सा मन मेरा ।
तन तो था दुनियां के संग में
पर मन निरा अकेला ।
अन्तस के तम को हर कर
किसने दिया प्रकाश ।
बरसों बाद छंटी दुख बदरी
मन निर्मल आकाश ।
अब मन फिर से उड़ना चाहे
स्वप्निल पंख सजाये ।
मधुमास में मधु स्वप्नों के
पल्लव पुष्पित हो आए ।

1 Like · 134 Views
You may also like:
इंद्रधनुष
Arjun Chauhan
भारत माँ पे अर्पित कर दूँ
Swami Ganganiya
बेकार ही रंग लिए।
Taj Mohammad
'बादल' (जलहरण घनाक्षरी)
Godambari Negi
जिंदगी: एक संघर्ष
Aditya Prakash
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
" मां भवानी "
Dr Meenu Poonia
कोशिश करने वालों की हार नहीं होती हैं
DR ARUN KUMAR SHASTRI
छंदानुगामिनी( गीतिका संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
भारत की जाति व्यवस्था
AMRESH KUMAR VERMA
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
*माहेश्वर तिवारी जी से संपर्क*
Ravi Prakash
बचपन को जिसने अपने
Dr fauzia Naseem shad
पैसा
Arjun Chauhan
गांधी : एक सोच
Mahesh Ojha
कोई किस्मत से कह दो।
Taj Mohammad
*बुरे फँसे कवयित्री पत्नी पाकर (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
ज़िंदगी तेरे मिज़ाज के
Dr fauzia Naseem shad
कान्हा तुमको सौ-सौ बार बधाई (भक्ति गीत)
Ravi Prakash
वक्त
AMRESH KUMAR VERMA
"जीवन"
Archana Shukla "Abhidha"
बहुत हुशियार हो गए है लोग
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
ग़ज़ल- राना सवाल रखता है
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मांडवी
Madhu Sethi
भाईजान की बात
AJAY PRASAD
भूल
Seema 'Tu haina'
दिल का मोल
Vikas Sharma'Shivaaya'
जम्हूरियत
बिमल
तोड़ें नफ़रत की सीमाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
शर्म-ओ-हया
Alpa
Loading...