Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jul 2020 · 1 min read

खुशबू

हर तरफ तेरी ही खुशबू और तेरा ही बस नज़ारा है,
“हसीन दिलबर” तू फूलों का महकता हुआ साया हैI

इंसान जब इंसानियत से दूर होता हुआ चला जाए,
“नफरत का तिलक” अपने माथे पर गर्व से लगाये ,
तेरे कहर में दुनिया का इंसान-इंसान सहम जाए,
तब तेरी नज़र जिन्दगी जीने का रास्ता दिखाए,

हर तरफ तेरी ही खुशबू और तेरा ही बस नज़ारा है,
रूठ न जाना मेरे यार तू ही मेरे जीने का सहारा है I

पल भर की जिंदगी के लिए बरसों का वो इंतजाम कर रहे,
खुद का ठिकाना नहीं “जहाँ” में पीढ़ियों का हिसाब कर रहे ,
“ फूलों के खूबसूरत शहर ” में वो कांटो का कारोबार कर रहे,
गुनाहों को माथे पर सजाकर तेरे खौफ से भी अब नहीं डर रहे ,

हर तरफ तेरी ही खुशबू और तेरा ही बस नज़ारा है,
कर ले कितने सितम ? तू हे मेरे जीने का सहारा हैI

फूलों की नगरी को उजाड़ने का दौर चल रहा,
फूलों को आपस में बाँटने का यह दौर चल रहा,
इंसानियत को मिटाने का कैसा दौर चल रहा?
मिलना है समंदर से पर दरिया कुलाचें भर रहा ,

हर तरफ तेरी ही खुशबू और तेरा ही बस नज़ारा है,
मेरे साजन एक बार कह दे “राज” से तू हमारा है I

देशराज “राज”

Language: Hindi
Tag: कविता
5 Likes · 4 Comments · 338 Views
You may also like:
✍️मनसूबे✍️
'अशांत' शेखर
# बोरे बासी दिवस /मजदूर दिवस....
Chinta netam " मन "
जिंदगी के उस मोड़ पर
shabina. Naaz
पिता
Surabhi bharati
मै और तुम ( हास्य व्यंग )
Ram Krishan Rastogi
मां महागौरी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
फूलों से।
Anil Mishra Prahari
तमाल छंद में सभी विधाएं सउदाहरण
Subhash Singhai
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
#दोहे #अवधेश_के_दोहे
Awadhesh Saxena
जात-पात के आग
Shekhar Chandra Mitra
#अपने तो अपने होते हैं
Seema 'Tu hai na'
विरह का सिरा
Rashmi Sanjay
सृष्टि के रहस्य सादगी में बसा करते है, और आडंबरों...
Manisha Manjari
भाये ना यह जिंदगी, चाँद देखे वगैर l
अरविन्द व्यास
शहीदे-आज़म पर दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"पिता की क्षमता"
पंकज कुमार कर्ण
राम केवल एक चुनावी मुद्दा नही हमारे आराध्य है
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
अजन्मी बेटी का दर्द !
Anamika Singh
'फौजी होना आसान नहीं होता"
Lohit Tamta
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
अपना घर
Shyam Sundar Subramanian
रक्षा बंधन :दोहे
Sushila Joshi
दीपक
MSW Sunil SainiCENA
ढूंढना दिल उसी को
Dr fauzia Naseem shad
हुई कान्हा से प्रीत, मेरे ह्रदय को।
Taj Mohammad
धर्म बला है...?
मनोज कर्ण
बेटी दिवस की बधाई
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
वो हमें दिन ब दिन आजमाते रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
बरसात और बाढ़
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
Loading...