Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jul 2016 · 1 min read

खुशबुओं की बस्ती

खुशबुओं की बस्ती

खुशबुओं की बस्ती में रहता प्यार मेरा है
आज प्यारे प्यारे सपनो ने आकर के मुझको घेरा है
उनकी सूरत का आँखों में हर पल हुआ यूँ बसेरा है
अब काली काली रातो में मुझको दीखता नहीं अँधेरा है

जब जब देखा हमने दिल को ,ये लगता नहीं मेरा है
प्यार पाया जब से उनका हमने ,लगता हर पल ही सुनहरा है
प्यार तो है सबसे परे ,ना उसका कोई चेहरा है
रहमते खुदा की जिस पर सर उसके बंधे सेहरा है

प्यार ने तो जीबन में ,हर पल खुशियों को बिखेरा है
ना जाने ये मदन ,फिर क्यों लगे प्यार पे पहरा है

खुशबुओं की बस्ती
मदन मोहन सक्सेना

Language: Hindi
Tag: गीत
342 Views
You may also like:
"मेरी कहानी"
Lohit Tamta
हम तेरे शरण में आए है।
Buddha Prakash
रूसवा है मुझसे जिंदगी
VINOD KUMAR CHAUHAN
लाज नहीं लूटने दूंगा
कृष्णकांत गुर्जर
हास्य दोहा अष्टमी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बेबस पिता
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
किताब।
Amber Srivastava
प्रिय सुनो!
Shailendra Aseem
देवदासी
Shekhar Chandra Mitra
कुछ समझ लिया कीजै
Dr. Sunita Singh
हर युग में जय जय कार
जगदीश लववंशी
बिखरना
Vikas Sharma'Shivaaya'
हिंदी दोहा- बचपन
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दफन
Dalveer Singh
नया दौर का नया प्यार
shabina. Naaz
बगुले ही बगुले बैठे हैं, भैया हंसों के वेश में
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कुछ नहीं इंसान को
Dr fauzia Naseem shad
"वफादार शेरू"
Godambari Negi
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
चेतना के उच्च तरंग लहराओं रे सॉवरियाँ
Dr.sima
चामर छंद "मुरलीधर छवि"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
*अस्पताल का बिल (हास्य गीत)*
Ravi Prakash
लड़की भी तो इंसान है
gurudeenverma198
दूर क्षितिज के पार
लक्ष्मी सिंह
Writing Challenge- आरंभ (Beginning)
Sahityapedia
फिक्र ना है किसी में।
Taj Mohammad
खुशी और गम
himanshu yadav
यादों का मंजर
Mahesh Tiwari 'Ayen'
✍️एक ख़्वाब आँखों से गिरा...
'अशांत' शेखर
#मेरे मन
आर.एस. 'प्रीतम'
Loading...