Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 May 2022 · 1 min read

खुद को तुम पहचानो नारी [भाग २]

सुनो नारी, सुनो नारी!
सुनो एक पैगाम।
परम्परा के नाम पर
न दो खुद का बलिदान ।

जो परम्परा तेरे पैरो को बाँधे,
वह बेड़ियाँ अब खोल दो।
जो तुम्हें उड़ने से रोके,
वह जंजीरे अब तोड़ दो।

भर उड़ान आसमान मेें तू,
जा आसमान नापकर आ।
दिखा दे दुनियाँ को एकबार
तू क्या -क्या कर सकती है।

तुम रख अपने अन्दर
करुणा दया और ममता
इसमें कुछ भी गलत नहीं है।
पर अपने पर होने वाले
शोषण के विरूद्ध तुम
आवाज न उठाओ।
यह बिल्कुल सही नही है।

तुम कब तक अपने इच्छा
को मारकर सपनो को दफनाओगी ।
कब तुम घूँघट और घर से
बाहर आ पाओगी।

तेरा वह घर है,
सम्भाल कर रखती हो अच्छी बात है।
पर यह सपने और इच्छा भी तो तेरा ही है।
इसे भी तो पूरा कर, जो तुम्हें पुरा करेगी।

भुल जा की तुम्हें कौन क्या कहता है।
मत सोच कि तुमसे होगा या नही।
सबसे पहले खुद पर विजय कर,
तुम करने की ठान तो सही।

देख तुम कैसे नामुमकिन
को भी मुमकिन बनाती हो।
कैसे तुम घर और बाहर
सुन्दर ढंग से सम्भालती हो।

अपनी क्षमता का परिचय
खुद से कराओ तो सही,
देखो एक पल में ही तुम कैसे,
धरती और आकाश
दोनो को नाप सकती हो।
अपने क्षमता से तुम हर
बुलन्दियों पर पहुँच सकती हो।

~अनामिका

Language: Hindi
Tag: कविता
6 Likes · 4 Comments · 328 Views
You may also like:
बेपर्दे का हुस्न।
Taj Mohammad
शुभारम्भ है
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ग़ज़ल कहूँ तो मैं असद
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
डेली पैसिंजर
Arvina
ਧੱਕੇ
Kaur Surinder
शर्मिंदा
Buddha Prakash
संगीत
Surjeet Kumar
अंदर का चोर
Shyam Sundar Subramanian
भारतीय संस्कृति और उसके प्रचार-प्रसार की आवश्यकता
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
सवाल में ज़िन्दगी के आयाम नए वो दिखाते हैं, और...
Manisha Manjari
यादें
श्याम सिंह बिष्ट
प्यार का रंग (सजल)
Rambali Mishra
*नारियों को आजकल, खुद से कमाना आ गया (हिंदी गजल/...
Ravi Prakash
प्रीत की आग लगाई क्यो तुमने
Ram Krishan Rastogi
सजल : तिरंगा भारत का
Sushila Joshi
आईना और वक्त
बिमल
कविता –सच्चाई से मुकर न जाना
रकमिश सुल्तानपुरी
औरत
Rekha Drolia
समझदारी - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आया क़िसमिस का त्यौहार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तो क्या तुम्हारे बिना
gurudeenverma198
"अशांत" शेखर भाई के लिए दो शब्द -
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
💐रामायणं तापस-प्रकरणं....💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
भारत का भविष्य
Shekhar Chandra Mitra
विष्णुपद छंद और विधाएँ
Subhash Singhai
लो विदा अब
Dr. Girish Chandra Agarwal
ज़िन्दगी इतना तो
Dr fauzia Naseem shad
✍️मैले है किरदार
'अशांत' शेखर
" भयंकर यात्रा "
DrLakshman Jha Parimal
प्रकृति
लक्ष्मी सिंह
Loading...