Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#3 Trending Author
May 16, 2022 · 1 min read

खुद को तुम पहचानो नारी [भाग २]

सुनो नारी, सुनो नारी!
सुनो एक पैगाम।
परम्परा के नाम पर
न दो खुद का बलिदान ।

जो परम्परा तेरे पैरो को बाँधे,
वह बेड़ियाँ अब खोल दो।
जो तुम्हें उड़ने से रोके,
वह जंजीरे अब तोड़ दो।

भर उड़ान आसमान मेें तू,
जा आसमान नापकर आ।
दिखा दे दुनियाँ को एकबार
तू क्या -क्या कर सकती है।

तुम रख अपने अन्दर
करुणा दया और ममता
इसमें कुछ भी गलत नहीं है।
पर अपने पर होने वाले
शोषण के विरूद्ध तुम
आवाज न उठाओ।
यह बिल्कुल सही नही है।

तुम कब तक अपने इच्छा
को मारकर सपनो को दफनाओगी ।
कब तुम घूँघट और घर से
बाहर आ पाओगी।

तेरा वह घर है,
सम्भाल कर रखती हो अच्छी बात है।
पर यह सपने और इच्छा भी तो तेरा ही है।
इसे भी तो पूरा कर, जो तुम्हें पुरा करेगी।

भुल जा की तुम्हें कौन क्या कहता है।
मत सोच कि तुमसे होगा या नही।
सबसे पहले खुद पर विजय कर,
तुम करने की ठान तो सही।

देख तुम कैसे नामुमकिन
को भी मुमकिन बनाती हो।
कैसे तुम घर और बाहर
सुन्दर ढंग से सम्भालती हो।

अपनी क्षमता का परिचय
खुद से कराओ तो सही,
देखो एक पल में ही तुम कैसे,
धरती और आकाश
दोनो को नाप सकती हो।
अपने क्षमता से तुम हर
बुलन्दियों पर पहुँच सकती हो।

~अनामिका

4 Likes · 2 Comments · 180 Views
You may also like:
* फितरत *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मुहब्बत भी क्या है
shabina. Naaz
✍️रिश्तेदार.. ✍️
Vaishnavi Gupta
एक प्रश्न
Aditya Prakash
✍️अलहदा✍️
'अशांत' शेखर
पेड़ की अंतिम चेतावनी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
स्याह रात ने पंख फैलाए, घनघोर अँधेरा काफी है।
Manisha Manjari
✍️आत्मपरीक्षण✍️
'अशांत' शेखर
# मां ...
Chinta netam " मन "
#कविता//ऊँ नमः शिवाय!
आर.एस. 'प्रीतम'
कशमकश
Anamika Singh
हाइकु:-(राम-रावण युद्ध)
Prabhudayal Raniwal
दिल से रिश्ते निभाये जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
वृक्ष बोल उठे..!
Prabhudayal Raniwal
हमारी ग़ज़लों ने न जाने कितनी मेहफ़िले सजाई,
Vaishnavi Gupta
ये दिल धड़कता नही अब तुम्हारे बिना
Ram Krishan Rastogi
जाऊं कहां मैं।
Taj Mohammad
हवस
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
कोई रिश्ता मुझे
Dr fauzia Naseem shad
★HAPPY FATHER'S DAY ★
KAMAL THAKUR
तब से भागा कोलेस्ट्रल
श्री रमण 'श्रीपद्'
कविता में मुहावरे
Ram Krishan Rastogi
'आप नहीं आएंगे अब पापा'
alkaagarwal.ag
यह दुनिया है कैसी
gurudeenverma198
✍️बचा लेना✍️
'अशांत' शेखर
दिल ज़रूरी है
Dr fauzia Naseem shad
मां
Dr. Rajeev Jain
खता क्या हुई मुझसे
Krishan Singh
बी एफ
Ashwani Kumar Jaiswal
कहो अब और क्या चाहें
VINOD KUMAR CHAUHAN
Loading...