Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 5, 2017 · 1 min read

खुद की तलाश…..

जो चाहा कभी वो हासिल हुआ ही नही
इस सबब मैंने कुछ भी चाहा ही नही,

रूदादे सफर अब लिखें भी तो क्या
खुद की तलाश मुझ में कभी खत्म होती ही नही,

सबब = वजह,कारण
रूदादे सफर=यात्रा का वर्णन

**$$@कपिल जैन@$$**

179 Views
You may also like:
सफलता कदम चूमेगी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आदर्श पिता
Sahil
बेटियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आपको याद भी तो करते हैं
Dr fauzia Naseem shad
घनाक्षरी छन्द
शेख़ जाफ़र खान
सोलह शृंगार
श्री रमण 'श्रीपद्'
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
कोई एहसास है शायद
Dr fauzia Naseem shad
विश्व फादर्स डे पर शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मुझे तुम भूल सकते हो
Dr fauzia Naseem shad
Green Trees
Buddha Prakash
पल
sangeeta beniwal
जब चलती पुरवइया बयार
श्री रमण 'श्रीपद्'
क्यों हो गए हम बड़े
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
वो बरगद का पेड़
Shiwanshu Upadhyay
हिय बसाले सिया राम
शेख़ जाफ़र खान
कैसे गाऊँ गीत मैं, खोया मेरा प्यार
Dr Archana Gupta
अबके सावन लौट आओ
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
टेढ़ी-मेढ़ी जलेबी
Buddha Prakash
पितृ स्तुति
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
उसकी मर्ज़ी का
Dr fauzia Naseem shad
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
हमारी सभ्यता
Anamika Singh
✍️वो इंसा ही क्या ✍️
Vaishnavi Gupta
कण-कण तेरे रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
बुद्ध या बुद्धू
Priya Maithil
संघर्ष
Sushil chauhan
मातृ रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
Loading...