Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Nov 7, 2016 · 1 min read

[[खुदा से तुम मिलो ऐसे की जैसे इक रवायत हो ]]

खुदा से तुम मिलो ऐसे की जैसे इक रवायत हो
दुआएँ भी मिले इतनी खुदा की ये इनायत हो

ख़ुशी मुझको मिले इतनी ख़ुदा इतना करम कर दो
अगर तुम साथ दो मेरा , यहाँ इतनी सी क़ुर्बत हो

लकीरे हाथ की तेरी मेरी भी एक जैसी है
सदा ही खुश रहो कोमल खुदा की भी जहानत हो

यकीं मुझको नही होता , मिले हो कुछ पलों पहले
मिले हो तुम मुझे ऐसे कँवल कोमल सी रंगत हो

जमानें की नहीं करना कभी भी फ़िक्र तुम रौनक
तुम्हारे सामने ही अब जमाने की वक़ालत हो

■■■ नितिन शर्मा ■■■

183 Views
You may also like:
मन को मोह लेते हैं।
Taj Mohammad
प्रेम
Vikas Sharma'Shivaaya'
ग्रीष्म ऋतु भाग ४
Vishnu Prasad 'panchotiya'
राह जो तकने लगे हैं by Vinit Singh Shayar
Vinit Singh
तिरंगा मेरी जान
AMRESH KUMAR VERMA
उफ ! ये गर्मी, हाय ! गर्मी / (गर्मी का...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हर अश्क कह रहा है।
Taj Mohammad
बुन रही सपने रसीले / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
गरीब के हालात
Ram Krishan Rastogi
تیری یادوں کی خوشبو فضا چاہتا ہوں۔
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
नयी बहुरिया घर आयी*
Dr. Sunita Singh
परिवार
Dr Meenu Poonia
सतुआन
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
खत किस लिए रखे हो जला क्यों नहीं देते ।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
कल कह सकता है वह ऐसा
gurudeenverma198
खूबसूरत एहसास.......
Dr. Alpa H. Amin
स्वर कटुक हैं / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
غزل
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
धार्मिक आस्था एवं धार्मिक उन्माद !
Shyam Sundar Subramanian
कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पापा की परी...
Sapna K S
हाय गर्मी!
Manoj Kumar Sain
💐💐प्रेम की राह पर-18💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नवगीत -
Mahendra Narayan
डर कर लक्ष्य कोई पाता नहीं है ।
Buddha Prakash
मिल जाने की तमन्ना लिए हसरत हैं आरजू
Dr.sima
पिता का प्यार
pradeep nagarwal
पितृ नभो: भव:।
Taj Mohammad
Loading...