Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jan 2022 · 1 min read

खुदगर्जी बुरी बला

यह खुदगर्जी एक बुरी शय है ,
यह रिश्तों का खून कर देती है ।
यह मुहोबत और दोस्ती को ,
तबाह कर देती है ।
यह जिस दिल में पलने लग जाए,
तो वफादारी का भी खून कर देती है।
क्या मां बाप ,क्या भाई बहन ,
और या बाकी सभी रिश्ते ,
सभी को खत्म कर देती है ।
इसका रोग अगर नेता और जनता ,
को लग जाए ।
तो देशभक्ति की भावना मर जाती है ।
यह आज के समय की बहुत बड़ी महामारी है।
सारे समाज को खत्म कर देती है ।

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Like · 2 Comments · 262 Views

Books from ओनिका सेतिया 'अनु '

You may also like:
मरहम नहीं बस दुआ दे दो ।
मरहम नहीं बस दुआ दे दो ।
Buddha Prakash
जिंदगी किसी की आसान नहीं होती...
जिंदगी किसी की आसान नहीं होती...
AMRESH KUMAR VERMA
अपनी सीमाओं को लांगा
अपनी सीमाओं को लांगा
कवि दीपक बवेजा
✍️एक ख़्वाब आँखों से गिरा...
✍️एक ख़्वाब आँखों से गिरा...
'अशांत' शेखर
इन्द्रधनुष
इन्द्रधनुष
Saraswati Bajpai
"सुख के मानक"
Dr. Kishan tandon kranti
💐अज्ञात के प्रति-154💐(प्रेम कौतुक-154)
💐अज्ञात के प्रति-154💐(प्रेम कौतुक-154)
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तुझे एहसास दिला देगा
तुझे एहसास दिला देगा
Dr fauzia Naseem shad
प्रथम शैलपुत्री
प्रथम शैलपुत्री
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"मैं" का मैदान बहुत विस्तृत होता है , जिसमें अहम...
Seema Verma
अभिव्यक्ति की आज़ादी है कहां?
अभिव्यक्ति की आज़ादी है कहां?
Shekhar Chandra Mitra
दोहे
दोहे
सत्य कुमार प्रेमी
इश्क़ का पिंजरा ( ग़ज़ल )
इश्क़ का पिंजरा ( ग़ज़ल )
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
■ जीवन दर्शन...
■ जीवन दर्शन...
*Author प्रणय प्रभात*
Sunny Yadav - Actor & Model
Sunny Yadav - Actor & Model
Sunny Yadav
मेरा यार आसमां के चांद की तरह है,
मेरा यार आसमां के चांद की तरह है,
Dushyant kumar Patel
मैं पीड़ाओं की भाषा हूं
मैं पीड़ाओं की भाषा हूं
Shiva Awasthi
कितने सावन बीते हैं
कितने सावन बीते हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
ख्वाहिशें आँगन की मिट्टी में, दम तोड़ती हुई सी सो गयी, दरार पड़ी दीवारों की ईंटें भी चोरी हो गयीं।
ख्वाहिशें आँगन की मिट्टी में, दम तोड़ती हुई सी सो...
Manisha Manjari
संत साईं बाबा
संत साईं बाबा
Pravesh Shinde
खालीपन
खालीपन
जय लगन कुमार हैप्पी
मां का हुआ आगमन नव पल्लव से हुआ श्रृंगार
मां का हुआ आगमन नव पल्लव से हुआ श्रृंगार
Charu Mitra
नदिया रोये....
नदिया रोये....
Ashok deep
वीरों को युद्ध आह्वान.....
वीरों को युद्ध आह्वान.....
Aditya Prakash
*खिलता है भीतर कमल 【कुंडलिया】*
*खिलता है भीतर कमल 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
ये  भी  क्या  कमाल  हो  गया
ये भी क्या कमाल हो गया
shabina. Naaz
गणतंत्र पर्व
गणतंत्र पर्व
Satish Srijan
सब्जियों पर लिखी कविता
सब्जियों पर लिखी कविता
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
झूठी मुहब्बत जता रहे हो।
झूठी मुहब्बत जता रहे हो।
Taj Mohammad
मनहरण घनाक्षरी
मनहरण घनाक्षरी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Loading...