Jan 17, 2022 · 1 min read

खुदकुशी से पहले

इस दुनिया की ओर
एक बार देख लेना!
इंसानियत की पुकार
एक बार सुन लेना!
कितने मजलूमों को
तुम्हारी ज़रूरत है
खुदकुशी से पहले
एक बार सोच लेना!
Shekhar Chandra Mitra

134 Views
You may also like:
💐कलेजा फट क्यूँ नहीँ गया💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
यह कैसा एहसास है
Anuj yadav
ऐ जिंदगी।
Taj Mohammad
सौगंध
Shriyansh Gupta
शून्य से अनन्त
D.k Math
सद्ज्ञानमय प्रकाश फैलाना हमारी शान है |
Pt. Brajesh Kumar Nayak
किसान
Shriyansh Gupta
पेड़ - बाल कविता
Kanchan Khanna
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
राम नाम ही परम सत्य है।
Anamika Singh
नाथूराम गोडसे
Anamika Singh
बेपरवाह बचपन है।
Taj Mohammad
.....उनके लिए मैं कितना लिखूं?
ऋचा त्रिपाठी
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
माँ
संजीव शुक्ल 'सचिन'
अजब कहानी है।
Taj Mohammad
हर अश्क कह रहा है।
Taj Mohammad
हमारी ग़ज़लों पर झूमीं जाती है
Vinit Singh
अमर कोंच-इतिहास
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*पुस्तक का नाम : अँजुरी भर गीत* (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
फरिश्तों सा कमाल है।
Taj Mohammad
मोबाइल सन्देश (दोहा)
N.ksahu0007@writer
जागीर
सूर्यकांत द्विवेदी
दंगा पीड़ित
Shyam Pandey
बाबू जी
Anoop Sonsi
परीक्षा एक उत्सव
Sunil Chaurasia 'Sawan'
*"पिता"*
Shashi kala vyas
ऐ उम्मीद
सिद्धार्थ गोरखपुरी
पिता हैं छाँव जैसे
अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'
गुणगान क्यों
spshukla09179
Loading...