Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jan 2023 · 1 min read

खास हो तुम

भरी खिज़ा में बहारों सी एहसास हो तुम।
कहीं भी मैं रहूँ लेकिन हमेशा पास हो तुम।
तेरे बगैर अब तो लगता है जीना मुश्किल।
जिंदगी में मेरे बन गयी इतनी खास हो तुम।

सतीश सृजन लखनऊ,

Language: Hindi
214 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
जिंदगी बोझ लगेगी फिर भी उठाएंगे
जिंदगी बोझ लगेगी फिर भी उठाएंगे
पूर्वार्थ
पड़ोसन की ‘मी टू’ (व्यंग्य कहानी)
पड़ोसन की ‘मी टू’ (व्यंग्य कहानी)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"रंग"
Dr. Kishan tandon kranti
*स्वच्छ मन (मुक्तक)*
*स्वच्छ मन (मुक्तक)*
Rituraj shivem verma
*मारीच (कुंडलिया)*
*मारीच (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
মন এর প্রাসাদ এ কেবল একটাই সম্পদ ছিলো,
মন এর প্রাসাদ এ কেবল একটাই সম্পদ ছিলো,
Sukoon
सम्मान गुरु का कीजिए
सम्मान गुरु का कीजिए
Harminder Kaur
जवानी में तो तुमने भी गजब ढाया होगा
जवानी में तो तुमने भी गजब ढाया होगा
Ram Krishan Rastogi
कहानी - आत्मसम्मान)
कहानी - आत्मसम्मान)
rekha mohan
मैं अपना सबकुछ खोकर,
मैं अपना सबकुछ खोकर,
लक्ष्मी सिंह
मेघ गोरे हुए साँवरे
मेघ गोरे हुए साँवरे
Dr Archana Gupta
उस दर्द की बारिश मे मै कतरा कतरा बह गया
उस दर्द की बारिश मे मै कतरा कतरा बह गया
'अशांत' शेखर
जिंदगी का सबूत
जिंदगी का सबूत
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Wishing you a very happy,
Wishing you a very happy,
DrChandan Medatwal
*जीवन में खुश रहने की वजह ढूँढना तो वाजिब बात लगती है पर खोद
*जीवन में खुश रहने की वजह ढूँढना तो वाजिब बात लगती है पर खोद
Seema Verma
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-143के दोहे
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-143के दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
मेरी आँख में झाँककर देखिये तो जरा,
मेरी आँख में झाँककर देखिये तो जरा,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
हे राम ।
हे राम ।
Anil Mishra Prahari
बेरोजगारी मंहगायी की बातें सब दिन मैं ही  दुहराता हूँ,  फिरभ
बेरोजगारी मंहगायी की बातें सब दिन मैं ही दुहराता हूँ, फिरभ
DrLakshman Jha Parimal
एक दिन जब वो अचानक सामने ही आ गए।
एक दिन जब वो अचानक सामने ही आ गए।
सत्य कुमार प्रेमी
मैं हूँ ना
मैं हूँ ना
gurudeenverma198
भगवावस्त्र
भगवावस्त्र
Dr Parveen Thakur
कश्मकश
कश्मकश
swati katiyar
चिंता
चिंता
RAKESH RAKESH
ईश्वर से शिकायत क्यों...
ईश्वर से शिकायत क्यों...
Radhakishan R. Mundhra
ख़ामोश सा शहर
ख़ामोश सा शहर
हिमांशु Kulshrestha
हर लम्हे में
हर लम्हे में
Sangeeta Beniwal
रोम-रोम में राम....
रोम-रोम में राम....
डॉ.सीमा अग्रवाल
कातिल
कातिल
Gurdeep Saggu
Loading...