Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jul 2022 · 1 min read

खामोश रह कर हमने भी रख़्त-ए-सफ़र को चुन लिया

खामोश रह कर हमने भी रख़्त-ए-सफ़र को चुन लिया
समझी ग़लत तुमने मुहब्बत खाक़-सर को चुन लिया

क्या है नहीं हमसे मोहब्बत दिल-परस्ती जान लो
ख़स्ता-ज़िगर ठहरे है, हम तो क्यों शरर को चुन लिया

महबूब ऐसे दर-ब-दर जाओ हमें ना छोड़ कर
क़ैद-ए-क़फ़स ने आप ही इस बुल-बशर को चुन लिया

बद-कार हूँ मैं, मानता हूँ प्यार का तेरा नहीं
दानिश ख़बर इस बात की रख हम-सफ़र को चुन लिया

क्यों ज़र्द चेहरा हो गया मेरा ग़लत मंसब नहीं
मौसम बहुत कम-ज़र्फ़ है जाज़िब-नज़र को चुन लिया

ख़ल्वत-नशीं है ये डगर ख़ल्वत-कदा पूरा नगर
दामन-कशाँ में कौन सा ज़ुर्म-ए-हशर को चुन लिया

गुस्ताखियाँ ग़ुमनामियों में हो गई हम से मगर
मा’शूक़ तुमने फिर वही बेदाद-गर को चुन लिया

Language: Hindi
2 Likes · 193 Views
You may also like:
ठोकरे इतनी खाई है हमने,
ठोकरे इतनी खाई है हमने,
कवि दीपक बवेजा
ज़रूरी था
ज़रूरी था
Shivkumar Bilagrami
खास हो तुम
खास हो तुम
Satish Srijan
2241.💥सबकुछ खतम 💥
2241.💥सबकुछ खतम 💥
Khedu Bharti "Satyesh"
तूणीर (श्रेष्ठ काव्य रचनाएँ)
तूणीर (श्रेष्ठ काव्य रचनाएँ)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
“ चुप मत रहना मेरी कविता ”
“ चुप मत रहना मेरी कविता ”
DrLakshman Jha Parimal
शुरुवात जरूरी है...!!
शुरुवात जरूरी है...!!
Shyam Pandey
ਕੋਈ ਨਾ ਕੋਈ #ਖ਼ਾਮੀ ਤਾਂ
ਕੋਈ ਨਾ ਕੋਈ #ਖ਼ਾਮੀ ਤਾਂ
Surinder blackpen
मैं उड़ सकती
मैं उड़ सकती
Surya Barman
ज़िंदगी तज्रुबा वो देती है
ज़िंदगी तज्रुबा वो देती है
Dr fauzia Naseem shad
तेरे मेरे रिश्ते को मैं क्या नाम दूं।
तेरे मेरे रिश्ते को मैं क्या नाम दूं।
Taj Mohammad
*मेरी इच्छा*
*मेरी इच्छा*
Dushyant Kumar
सच्ची मोहब्बतें कहां पैसों का खेल है!
सच्ची मोहब्बतें कहां पैसों का खेल है!
अशांजल यादव
💐प्रेम कौतुक-352💐
💐प्रेम कौतुक-352💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बेरोज़गारी
बेरोज़गारी
Shekhar Chandra Mitra
शेयर मार्केट में पैसा कैसे डूबता है ?
शेयर मार्केट में पैसा कैसे डूबता है ?
Rakesh Bahanwal
"Don't be fooled by fancy appearances, for true substance li
Manisha Manjari
कब मरा रावण
कब मरा रावण
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दुःख के संसार में
दुःख के संसार में
Buddha Prakash
■ चौराहे पर जीवन
■ चौराहे पर जीवन
*Author प्रणय प्रभात*
बात क्या है जो नयन बहने लगे
बात क्या है जो नयन बहने लगे
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
तुझे बताने
तुझे बताने
Sidhant Sharma
सच्चा आनंद
सच्चा आनंद
दशरथ रांकावत 'शक्ति'
साजिशों की छाँव में...
साजिशों की छाँव में...
मनोज कर्ण
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
मेरे खतों को अगर,तुम भी पढ़ लेते
मेरे खतों को अगर,तुम भी पढ़ लेते
gurudeenverma198
अनूठी दुनिया
अनूठी दुनिया
AMRESH KUMAR VERMA
हाइकु:(लता की यादें!)
हाइकु:(लता की यादें!)
Prabhudayal Raniwal
माँ (ममता की अनुवाद रही)
माँ (ममता की अनुवाद रही)
Vijay kumar Pandey
"मार्केटिंग"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...