Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

खामोशियाँ

कुछ भी तो नही बदला
दोनो के दरमियां
वही तुम वही मैं
और वही खामोशियाँ

खामोशियाँ कहाँ,
जो चुप रह कर भी
ढेरों बातें करती है
चुप्पी हमारी और
आँखें तुम्हारी❤️

2 Likes · 81 Views
You may also like:
एक ख़्वाब।
Taj Mohammad
** शरारत **
Dr. Alpa H. Amin
जो खुद ही टूटा वो क्या मुराद देगा मुझको
Krishan Singh
गुरुजी!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
गंतव्य में पीछे मुड़े, अब हमें स्वीकार नहीं
Tnmy R Shandily
मेरी गुड़िया (संस्मरण)
Kanchan Khanna
सेतुबंध रामेश्वर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बहुत कुछ अनकहा-सा रह गया है (कविता संग्रह)
Ravi Prakash
गर हमको पता होता।
Taj Mohammad
इक दिल के दो टुकड़े
D.k Math
रफ्तार
Anamika Singh
दिल्लगी दिल से होती है।
Taj Mohammad
पिता
Shailendra Aseem
*~* वक्त़ गया हे राम *~*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
अभी तुम करलो मनमानियां।
Taj Mohammad
ऐतबार नहीं करना!
Mahesh Ojha
पिता
Vandana Namdev
फारसी के विद्वान श्री नावेद कैसर साहब से मुलाकात
Ravi Prakash
पर्यावरण संरक्षण
Manu Vashistha
पापा ने मां बनकर।
Taj Mohammad
एक वीरांगना का अन्त !
Prabhudayal Raniwal
He is " Lord " of every things
Ram Ishwar Bharati
महिलाओं वाली खुशी "
Dr Meenu Poonia
धन्य है पिता
Anil Kumar
हम भी है आसमां।
Taj Mohammad
'मेरी यादों में अब तक वे लम्हे बसे'
Rashmi Sanjay
दर्द।
Taj Mohammad
*!* "पिता" के चरणों को नमन *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पिया-मिलन
Kanchan Khanna
अब ज़िन्दगी ना हंसती है।
Taj Mohammad
Loading...