Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jul 2022 · 2 min read

“ खाइतो छी आ गुंगुअवैत छी “

{ व्यंग }
डॉ लक्ष्मण झा ” परिमल ”
=======================
इ हमर सौभाग्य जे हमर जन्म मिथिला मे भेल ! पैघ भेलहूँ अन्य राज्य मे नौकरी भेटल ! तीन- तीन वरखक पश्चात स्थानांतरण होइत छल ! कखनो लखनऊ ,हिमांचल प्रदेश ,हरियाणा ,पुणे ,मद्रास आ विभिन्य स्थान पर रहबाक अवसर भेटल ! जाहि परिवेश मे रहित छलहूँ ओहिठामक व्यंजन भेटइत छल ! स्वादिष्ट बड़ होइत छल मुदा खाइतो छलहूँ आ गूंगीएबतो छलहूँ ! मेस मे जखन इडली आ दोसा बनैत छल हम टूटी पड़ैत छलहूँ ! कोंची -कोंची केँ खाइत छलहूँ ! मुदा नाटक आ रामलीला क महारथी लोकक सोझा गुंगुअवैत रहित छलहूँ ,
” इ मिथिला व्यंजन नहि थीक “ ! धूर ! एकर नाम नहि लिय !”
किछु दिनक उपरांत गाम सं कनिया आ बच्चा केँ नेने एलहूँ ! बच्चा दूनू केँ इंग्लिश मिडीअम मे द देलियनि ! समय बितल बच्चा लोकनि “मेरे को ,तेरे को” बाजय लगलाह ! भेष -भूषा सहो बदलि गेलनि ! कनिया क मैथिली सेहो ओझरा गेलनि ! आधुनिक परिधान मे रहित मैथिली भाषा संस्कृति ,रीति रिवाज केँ तिलांजलि ओ द देलनि !
हम चौबीसों घंटा अपन गाल तर तंबाकू ,गुटका ,पान पराग इत्यादि रखने रहित छी ! सब संध्या देशी दारू पिबइत छी ! राति मे कनिया चखना आ नीक -नीक मांसाहारी व्यंजन बनबैत छथि ! मुदा एतबा रहितों हम पहिने कहलहूँ हम कुशल कलाकार छी ! गाम दरभंगा वाला हवाई जहाज सं अबैत छी ! इ मिथिला क सबारी नहि थीक ! हाथ मे अनरॉइड मोबाईल रखने छी ओहो मिथिला मैड नहि थीक ! परिधान जे पहिरैत छी सहो आनठाम बनल अछि !
भाषा संस्कृति रीति रिवाज बिसरि गेलहूँ ! तथापि गुंगएनाई नहि बिसरलहूँ ! लैपटॉप ,आधुनिक टीवी , बच्चा सभक अनलाइन क्लास आ गूगल क सेवा समस्त विश्व ल रहल अछि ! एकरा सबकें हमरा लोकनि अंतरात्मा सं स्वीकार केने छी मुदा लोकक समक्ष ,
“ खाइतो छी आ गुंगुअवैत छी “!
कियो लोक “इडली दोसा” पर कविता मैथिली मे लिखने रहिथ ! इ व्यंग्यात्मक छल ! हम ओहि मैथिली ग्रुप केँ खूब फझइति केलियनी ,” इडली दोसा “ मिथिला व्यंजन थीक ?” हम किछु करि मुदा मैथिली क अवनति हम नहि देखि सकैत छी ! तें हम “ खाइतो छी आ गुंगुअवैत छी “!!
==============
डॉ लक्ष्मण झा ” परिमल ”
साउंड हेल्थ क्लिनिक
डॉक्टर’स लेन
दुमका
झारखण्ड
भारत

Language: Maithili
Tag: निबंध
2 Likes · 89 Views
You may also like:
बंधन बाधा हर हरो
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
दिन आये हैं मास्क के...
आकाश महेशपुरी
सच होता है कड़वा
gurudeenverma198
ए. और. ये , पंचमाक्षर , अनुस्वार / अनुनासिक ,...
Subhash Singhai
कुछ अल्फाज़ खरे ना उतरते हैं।
Taj Mohammad
कह न पाई मै,बस सोचती रही
Ram Krishan Rastogi
चर्चित हुए हम
Dr. Sunita Singh
रंग-ए-बाज़ार कर लिया खुद को
Ashok Ashq
बगिया का गुलाब प्यारा...
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
फकीरे
Shiva Awasthi
ख्याल में तुम
N.ksahu0007@writer
क्यो अश्क बहा रहे हो
Anamika Singh
दिल कोई आरज़ू नहीं करता
Dr fauzia Naseem shad
हवा का झोका हू
AK Your Quote Shayari
ਪੱਥਰਾਂ ਦੇ ਜਾਏ
Kaur Surinder
शिकायत है उन्हें
मानक लाल"मनु"
शेर
Rajiv Vishal
"शौर्यम..दक्षम..युध्धेय, बलिदान परम धर्मा" अर्थात- बहादुरी वह है जो आपको...
Lohit Tamta
✍️हम वतनपरस्त जागते रहे..✍️
'अशांत' शेखर
मेरा हैप्पी बर्थडे
Satish Srijan
मेरी कलम से किस किस की लिखूँ मैं कुर्बानी।
PRATIK JANGID
आने वाला कल दुनिया में, मुसीबतों का कल होगा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*साठ वर्ष की आयु (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
बहुत प्यार करता हूं तुमको
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
नेता (Leader)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
■ कटाक्ष / कथनी विरुद्ध करनी पर
*प्रणय प्रभात*
कवित्त
Varun Singh Gautam
अच्छा लगा
Sandeep Albela
घूँघट की आड़
VINOD KUMAR CHAUHAN
माँ अन्नपूर्णा
Shashi kala vyas
Loading...