Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Aug 2022 · 1 min read

ख़्वाब पर लिखे अशआर

ख़्वाब में हमसे मिल कभी आके ।
मेरी आंखों को नींद आती है ।।

ख़्वाब में जागती रही आंखें ।
हम तरसते रहे हैं नींदों को ॥

तरसी हुई नज़र को उम्मीद-ए-दीद है।
आ ख़्वाब बन के आजा आंखों में नींद है ।

मुस्कुराट लबों की क्या कहिए ।
मेरी आंखों में ख़्वाब तेरे हैं ।।

नफ़रतों को कुछ ऐसा मोड़ दिया ।
सिलसिला ख़्वाब का भी तोड़ दिया ।।

नींद का कुछ कुसूर थोड़ी था ।
भीगी आंखों के ख़्वाब भीगे थे ।।

टूटी नींदों के ‘शाद’ हिस्से में ।
ख़्वाब कोई कहां मुकम्मल था ।।

हमको इस ज़िन्दगी के हासिल जवाब थे ।
कहीं नींद थी अधूरी कहीं टूटे ख़्वाब थे ।।

डॉ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
6 Likes · 127 Views
You may also like:
स्पंदित अरदास!
Rashmi Sanjay
पसंदीदा व्यक्ति के लिए.........
Rahul Singh
आंखों के दपर्ण में
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
*तारों की तरह चमकना (बाल कविता)*
Ravi Prakash
पिता का आशीष
Prabhudayal Raniwal
सोच
kausikigupta315
धर्म
विजय कुमार 'विजय'
नया पाकिस्तान
Shekhar Chandra Mitra
जय जय भारत देश महान......
Buddha Prakash
@@कामना च आवश्यकता च विभेदः@@
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
'कभी तो'
Godambari Negi
वक्त वक्त की बात है 🌷🌷
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
वफा का हर वादा निभा रहे है।
Taj Mohammad
✍️दिल बहल जाता है।✍️
'अशांत' शेखर
यह सच आज मुझको मालूम हो पाया
gurudeenverma198
JNU CAMPUS
मनोज शर्मा
चिड़िया का घोंसला
DESH RAJ
सावन की बौछार
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बच्चों को भी भगवान का ही स्वरूप माना जाता है...
पीयूष धामी
धन्य है पिता
Anil Kumar
आस्तीक भाग -सात
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
छठ पर्व
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
मेरे 20 सर्वश्रेष्ठ दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
" फ़ोटो "
Dr Meenu Poonia
हिंदी दोहे बिषय- विकार
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
प्रेम गीत पर नृत्य करें सब
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
शिद्तों में जो बे'शुमार रहा
Dr fauzia Naseem shad
मौला मेरे मौला
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जिंदगी के रंग
shabina. Naaz
अंतरराष्ट्रीय मित्रता पर दोहे
Ram Krishan Rastogi
Loading...