Jan 17, 2022 · 1 min read

ख़्याल खुदकुशी का

जिसके पास वाजिब
एक रोज़गार नहीं होता!
ज़रूरत के मुताबिक
कोई अधिकार नहीं होता!!
आता है उसी को
ख़्याल खुदकुशी का
जिसकी ज़िंदगी में
किसी का प्यार नहीं होता!!
Shekhar Chandra Mitra

114 Views
You may also like:
गुरु तेग बहादुर जी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जानें किसकी तलाश है।
Taj Mohammad
पंडित मदन मोहन व्यास की कुंडलियों में हास्य का पुट
Ravi Prakash
पिया-मिलन
Kanchan Khanna
'बेटियाॅं! किस दुनिया से आती हैं'
Rashmi Sanjay
हनुमंता
Dhirendra Panchal
कविता क्या है ?
Ram Krishan Rastogi
प्रेम...
Sapna K S
इंसानियत बनाती है
gurudeenverma198
Where is Humanity
Dheerendra Panchal
💐ये मेरी आशिकी💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तन्हा हूं, मुझे तन्हा रहने दो
Ram Krishan Rastogi
पिता
नवीन जोशी 'नवल'
वीर विनायक दामोदर सावरकर जिंदाबाद( गीत )
Ravi Prakash
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
Crumbling Wall
Manisha Manjari
तितली सी उड़ान है
VINOD KUMAR CHAUHAN
अद्भभुत है स्व की यात्रा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कौन था वो ?...
मनोज कर्ण
वक्त अब कलुआ के घर का ठौर है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पापा आप बहुत याद आते हो।
Taj Mohammad
विश्व पुस्तक दिवस
Rohit yadav
पानी का दर्द
Anamika Singh
बेपनाह गम था।
Taj Mohammad
मनोमंथन
Dr. Alpa H.
परिंदों सा।
Taj Mohammad
वफा की मोहब्बत।
Taj Mohammad
कच्चे आम
Prabhat Ranjan
खोलो मन की सारी गांठे
Saraswati Bajpai
कन्या रूपी माँ अम्बे
Kanchan Khanna
Loading...