Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Nov 26, 2016 · 1 min read

ख़ौफ़ अब कोई नहीं जीने का सामां हो गई

ख़ौफ़ अब कोई नहीं जीने का सामां हो गई
मुश्किलें मुझ पर पड़ी इतनी के आसां हो गई

हसरतें छोड़ चली बाकी दर्दो-ग़म यहाँ
ज़िंदगी मेरी सनम खेलों का मैदाँ हो गई

बोझ थी दुनियां इसे उतार फैंका इस तरह
मुश्किल थी जो धड़कन जाने-जानां हो गई

देर थोड़ी और है खाक़ मेरे हो जाने में
या खुदा फिर ये न कहना बस्ती वीरा हो गई

फूल क्या अब ना खिलेंगे फिर से बहार आएगी
नींद के बादल हटे तो में परेशां हो गई

शोर इतना है भरा गिरने का मेरे टूट के
साँस रुकने चलो मेरी आहें तूफ़ां हो गई

–सुरेश सांगवान ‘सरु’

1 Comment · 109 Views
You may also like:
चलना ही पड़ेगा
Mahendra Narayan
किताब...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:37
AJAY AMITABH SUMAN
आ तुझको बसा लूं आंखों में।
Taj Mohammad
आगे बढ़,मतदान करें।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
गांव शहर और हम ( कर्मण्य)
Shyam Pandey
वनवासी संसार
सूर्यकांत द्विवेदी
मेरी तस्वीर
Dr fauzia Naseem shad
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
बेटी का पत्र माँ के नाम (भाग २)
Anamika Singh
تیری یادوں کی خوشبو فضا چاہتا ہوں۔
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
डरता हूं
dks.lhp
"मुश्किल वक़्त और दोस्त"
Lohit Tamta
पहचान
Anamika Singh
मौसम की पहली बारिश....
Dr. Alpa H. Amin
परछाई से वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
The Survior
श्याम सिंह बिष्ट
【29】!!*!! करवाचौथ !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
चढ़ता पारा
जगदीश शर्मा सहज
जीत-हार में भेद ना,
Pt. Brajesh Kumar Nayak
संविधान निर्माता को मेरा नमन
Surabhi bharati
पढ़ाई-लिखाई एक बोझ
AMRESH KUMAR VERMA
गर्मी
Ram Krishan Rastogi
मजदूर_दिवस_पर_विशेष
संजीव शुक्ल 'सचिन'
बॉलीवुड का अंधा गोरी प्रेम और भारतीय समाज पर इसके...
हरिनारायण तनहा
"हमारी मातृभाषा हिन्दी"
Prabhudayal Raniwal
डॉ. भीमराव रामजी अम्बेडकर
N.ksahu0007@writer
✍️चार कदम जिंदगी✍️
"अशांत" शेखर
मेरी लेखनी
Anamika Singh
सांसें कम पड़ गई
Shriyansh Gupta
Loading...