Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 15, 2021 · 1 min read

ख़त आया है ………

खत लिख कर तुमने तो इल्ज़ाम लगा दिया
एक ही पल में बेपरवाह का पैग़ाम भेज दिया
ज़िक्र उस धरती का क्या करूँ जिसको मैंने तराशा था
बड़े सपनों के साथ इसको सुंदर सा सजाया था
प्रकृति और पर्यावरण का अद्भुत मेल कराया था
प्रेम भाव से रह कर जीने का बीज उगाया था
इंसानों को समन्वय के साथ रहने का पाठ भी पढाया था …
पर न जाने उसको बनाते बनाते क्या सुझी मुझको
दिल की धड़कन के साथ सोचने वाला दिमाग़ भी डाल दिया
उसी दिमाग़ ने जब राग और द्वेष का माया जाल बुन लिया
कभी न ख़त्म होने वाला लाभ और हानि का चक्कर चला दिया …
भूल गया वो इंसान सद्भावना और संवेदना का पाठ
कुचल दिया उसने मेरे बनाए संसार का ठाठ!
तो अब क्यूँ करते हो मुझसे वफ़ा की आशा
छलनी कर दिया जब तुमने धरा को बेतहाशा !!
थोड़ा सहना पड़ा है अब उसके एवज़ में
खोना पड़ा है अपनों का साथ बेवक्त में
हाहाकार तुमने बड़ा मचाया था तब
प्रकृति ने उसी गूँज को दोहराया है अब …
लेकिन हाँ मैंने देख लिया है
इंसान थोड़ा संभल गया है
अपने किए पापों को भोग रहा है
तुम भी अब घबराओ मत
बहुत जल्द ही में आऊँगा
और अपनी बेवफ़ाई का
सबूत भी दे पाऊँगा !!!

4 Likes · 7 Comments · 153 Views
You may also like:
भूखे पेट न सोए कोई ।
Buddha Prakash
तेरे बगैर।
Taj Mohammad
प्रतियोगिता
krishan saini
पागल बना दे
Harshvardhan "आवारा"
मन का मोह
AMRESH KUMAR VERMA
पत्थरबाज
साहित्य गौरव
मोहब्बत में दिल।
Taj Mohammad
तेरी सुंदरता पर कोई कविता लिखते हैं।
Taj Mohammad
जुल्म की इन्तहा
DESH RAJ
एक शहीद की महबूबा
ओनिका सेतिया 'अनु '
मुझको मालूम नहीं
gurudeenverma198
यह सूखे होंठ समंदर की मेहरबानी है
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
✍️लापता हूं खुद से✍️
'अशांत' शेखर
मां जैसा कोई ना।
Taj Mohammad
“ सज्जन चोर ”
DrLakshman Jha Parimal
उन शहीदों की कहानी
gurudeenverma198
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
मुक्तक(मंच)
Dr Archana Gupta
✍️एक आफ़ताब ही काफी है✍️
'अशांत' शेखर
जा बैठे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
✍️✍️वहम✍️✍️
'अशांत' शेखर
✍️लोग जमसे गये है।✍️
'अशांत' शेखर
यशोधरा की व्यथा....
kalyanitiwari19978
तन्हाई के आलम में।
Taj Mohammad
चामर छंद "मुरलीधर छवि"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
ख्वाब ही जीवन है
Mahendra Rai
आख़िरी मुलाक़ात ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
पुण्य स्मरण: 18 जून2008 को मुरादाबाद में आयोजित पारिवारिक समारोह...
Ravi Prakash
“ অখনো মিথিলা কানি রহল ”
DrLakshman Jha Parimal
चाहे मत छूने दो मुझको
gurudeenverma198
Loading...