Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 May 2022 · 1 min read

खस्सीक दाम दस लाख

‘कविता’
“खस्सीक दाम दश लाख”
* * *
दश लाख पकरिते
बुढ़िया असोरा पर बैस गेलिह,
थकाएल पेराएल।
हुँनक खस्सीक दाम छै दश लाख॥
पान छौ महिना पहिने
रमचँनरा कहलकै किदन…
गै काकी, खस्सी चरेब्ही कतऽ??
आब त मालिक खेत मे देवाल लगा रहल छौ..
बुढ़िया थकमकाह गेलिह..
हमर खस्सी कोना चरत?
रमचँनरा कहलकै ‘गै, लानऽ खस्सी’..
सार मलिकवा के वालिये चरा देवै..
बुढ़ियो तामस मे आबि गेलिह्
हँ रौ! लऽ जोऽ…
सरऽधुवा बड़ चाँई छौ..
तहिए सँ रमचँनरा निपत्ता।
बुढ़िया खोजबो केलकै
ने खस्सी भेटल
ने रमचँनरा…
आई रमचँनरा लकऽ आएल छै दश लाख।
हुनक खस्सीक दाम दश लाख॥
खस्सीक बलि चढऽबिते रमचँनरा आ मालिक मे मेल भऽ गेलैक किदंन..
इ मेल सँ खुस भऽ मालिक दश लाख देने छै..
हुनक खस्सीक दाम दश लाख।
एम्हर नोराएल आँख सँ बुढिया
खुर्पी जाला दिसन ताकि रहल छैन्ह..
जेकरा चल्ते रने बने बौवेलहुँ
ओकरे दाम दश लाख॥
खस्सी जे बुढ़ियाक पँजरा मे बैसैत छल
जे चेथरे पर मुतैत छल
ओकरे दाम दश लाख।
जे मेमियहट्ट बुढ़िया के जगबैत छल
ओकर दाम दश लाख॥
* * * *
-रंजित झा
बलरा, सर्लाही

Language: Maithili
Tag: कविता
1 Like · 145 Views
You may also like:
# दोस्त .....
Chinta netam " मन "
ज़िंदगी हमको
Dr fauzia Naseem shad
चांद जमीं पर आकर उतर गया।
Taj Mohammad
गलतफहमी
विजय कुमार अग्रवाल
पिता एक सूरज
डॉ. शिव लहरी
तुम ही ये बताओ
Mahendra Rai
जिसकी फितरत वक़्त ने, बदल दी थी कभी, वो हौसला...
Manisha Manjari
हैं सितारे खूब, सूरज दूसरा उगता नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
राम नाम ही बोलिये, महावीरा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कबीर कला मंच
Shekhar Chandra Mitra
सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Savarnon ke liye Ambedkar bhasmasur.
Dr.sima
अश्रुपात्र A glass of tears भाग 9
Dr. Meenakshi Sharma
मानव इतिहास के महानतम् मार्शल आर्टिस्टों में से एक "Bruce...
Pravesh Shinde
मजबूरी
पीयूष धामी
कौन था वो ?...
मनोज कर्ण
रबीन्द्रनाथ टैगोर पर तीन मुक्तक
Anamika Singh
हवा का झोका हू
AK Your Quote Shayari
*कविवर रमेश कुमार जैन की ताजा कविता को सुनने का...
Ravi Prakash
बेबस-मन
विजय कुमार नामदेव
✍️खून-ए-इंक़िलाब नहीं✍️
'अशांत' शेखर
Writing Challenge- साहस (Courage)
Sahityapedia
हिंदी हमारी राष्ट्रीय भाषा
RAFI ARUN GAUTAM
जैसी करनी वैसी भरनी
Ashish Kumar
दुःखडा है सबका अपना अपना
gurudeenverma198
जीतकर ही मानेंगे
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मातृशक्ति को नमन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कुछ तो बोल
Harshvardhan "आवारा"
एक तलाश
Ray's Gupta
आया शरद पूर्णिमा की महारास
लक्ष्मी सिंह
Loading...