Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

खलनायक नम्बर वन

नेता के अच्छे से चमचे, बस्ती के वो बाप है।
पाप कर रहे उनकी शै पर, कैसे होगा जाप है।।
ताप बढ़ा है बड़ा भयंकर, नापों अपने आप है।
सच्चाई के साथ में चलना, आज बना अभिशाप है।।
सूवर ने जब शोर मचाया, जग अँधियारा छाया है।
कुटिल को ही उसने तो, नैतिकता बतलाया है।।
अमन चैन का खाना पीना, पाखंडी का पेशा है।
बम बरसाता बस्ती पर, चेहरा दानव जैसा है।।
लूट खसौट कर पेट भरे, करता नँगा नाच है।
कोतवाल मौसेरा भाई, कौन करेगा जांच है।।
बड़े बड़े ज्ञानी को पानी, पिला रहा नालायक है।
नायक नं. वन बना, नं. वन खलनायक है।।

1 Like · 1 Comment · 162 Views
You may also like:
लिहाज़
पंकज कुमार "कर्ण"
✍️थोडा रूमानी हो जाते...✍️
"अशांत" शेखर
सांसें कम पड़ गई
Shriyansh Gupta
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
【30】*!* गैया मैया कृष्ण कन्हैया *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
सुख दुख
Rakesh Pathak Kathara
गँवईयत अच्छी लगी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जिंदगी क्या है?
Ram Krishan Rastogi
ईश्वर की ठोकर
Vikas Sharma'Shivaaya'
देश के हालात
Shekhar Chandra Mitra
पढ़ाई-लिखाई एक बोझ
AMRESH KUMAR VERMA
योग है अनमोल साधना
Anamika Singh
✍️एक चूक...!✍️
"अशांत" शेखर
बेजुबान
Dhirendra Panchal
आह! 14 फरवरी को आई और 23 फरवरी को चली...
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
(स्वतंत्रता की रक्षा)
Prabhudayal Raniwal
🙏विजयादशमी🙏
पंकज कुमार "कर्ण"
अल्फाज़ ए ताज भाग-4
Taj Mohammad
पितृ वंदना
मनोज कर्ण
हे मनुष्य!
Vijaykumar Gundal
महाराष्ट्र में सत्ता परिवर्तन
Ram Krishan Rastogi
माँ गंगा
Anamika Singh
जिंदगी: एक संघर्ष
Aditya Prakash
मेरे सनम
DESH RAJ
वृक्ष हस रहा है।
Vijaykumar Gundal
तू एक बार लडका बनकर देख
Abhishek Upadhyay
तुम्हारा प्यार अब नहीं मिलता।
सत्य कुमार प्रेमी
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग१]
Anamika Singh
अंकपत्र सा जीवन
सूर्यकांत द्विवेदी
"पिता और शौर्य"
Lohit Tamta
Loading...