Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Dec 2022 · 1 min read

खत्म हुआ मतदान अब

ग़ज़ल

खत्म हुआ मतदान अब।
गलियाँ हैं सुनसान अब।।

वैर-भाव सब छोड़ कर,
गाना मंगल गान अब।।

सजा सेहरा जीत का,
करना सबका मान अब।।

दीन-दुखी की मदद कर,
बना सही पहचान अब।।

जोड़ घटा सब छोड़ कर,
धरो काम पर ध्यान अब।।

‘सिल्ला’ सारे बंधु हैं,
बजा अमन की तान अब।।

-विनोद सिल्ला

Language: Hindi
1 Like · 80 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
उतरन
उतरन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
I am a little boy
I am a little boy
Rajan Sharma
*लिफाफा भोजन शादी( कुंडलिया)*
*लिफाफा भोजन शादी( कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ढोंगी बाबा
ढोंगी बाबा
Kanchan Khanna
💐अज्ञात के प्रति-149💐
💐अज्ञात के प्रति-149💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ऐ ज़िन्दगी ..
ऐ ज़िन्दगी ..
Dr. Seema Varma
बड़ा अखरता है मुझे कभी कभी
बड़ा अखरता है मुझे कभी कभी
ruby kumari
कौसानी की सैर
कौसानी की सैर
नवीन जोशी 'नवल'
मत याद करो बीते पल को
मत याद करो बीते पल को
Surya Barman
गोपी-विरह
गोपी-विरह
Shekhar Chandra Mitra
कोरा कागज और मेरे अहसास.....
कोरा कागज और मेरे अहसास.....
Santosh Soni
✍️दोस्ती ✍️
✍️दोस्ती ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
विद्या-मन्दिर अब बाजार हो गया!
विद्या-मन्दिर अब बाजार हो गया!
Bodhisatva kastooriya
"मेरा भोला बाबा"
Dr Meenu Poonia
युग बीते और आज भी ,
युग बीते और आज भी ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
एहसास
एहसास
Shutisha Rajput
बस चलता गया मैं
बस चलता गया मैं
Satish Srijan
कोशी के वटवृक्ष
कोशी के वटवृक्ष
Shashi Dhar Kumar
नजरिया रिश्तों का
नजरिया रिश्तों का
विजय कुमार अग्रवाल
वक़्त की रफ़्तार को
वक़्त की रफ़्तार को
Dr fauzia Naseem shad
Arj Kiya Hai...
Arj Kiya Hai...
Nitesh Kumar Srivastava
जब भी मनचाहे राहों ने रुख मोड़ लिया
जब भी मनचाहे राहों ने रुख मोड़ लिया
'अशांत' शेखर
पहनते है चरण पादुकाएं ।
पहनते है चरण पादुकाएं ।
Buddha Prakash
हुऐ बर्बाद हम तो आज कल आबाद तो होंगे
हुऐ बर्बाद हम तो आज कल आबाद तो होंगे
Anand Sharma
Mannato ka silsila , abhi jari hai, ruka nahi
Mannato ka silsila , abhi jari hai, ruka nahi
Sakshi Tripathi
सरसी छंद
सरसी छंद
Charu Mitra
अभी गहन है रात.......
अभी गहन है रात.......
Parvat Singh Rajput
"इस हथेली को भी बस
*Author प्रणय प्रभात*
मिलन फूलों का फूलों से हुआ है_
मिलन फूलों का फूलों से हुआ है_
Rajesh vyas
तू क्यों रोता है
तू क्यों रोता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...