Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Aug 2016 · 2 min read

खजाना

पिता के अंतिम संस्कार के बाद शाम को दोनों बेटे घर के बाहर आंगन में अपने रिश्तेदारों और पड़ौसियों के साथ बैठे हुए थे| इतने में बड़े बेटे की पत्नी आई और उसने अपने पति के कान में कुछ कहा| बड़े बेटे ने अपने छोटे भाई की तरफ अर्थपूर्ण नजरों से देखकर अंदर आने का इशारा किया और खड़े होकर वहां बैठे लोगों से हाथ जोड़कर कहा, “अभी पांच मिनट में आते हैं”|

फिर दोनों भाई अंदर चले गये| अंदर जाते ही बड़े भाई ने फुसफुसा कर छोटे से कहा, “बक्से में देख लेते हैं, नहीं तो कोई हक़ जताने आ जाएगा|” छोटे ने भी सहमती में गर्दन हिलाई |

पिता के कमरे में जाकर बड़े भाई की पत्नी ने अपने पति से कहा, “बक्सा निकाल लीजिये, मैं दरवाज़ा बंद कर देती हूँ|” और वह दरवाज़े की तरफ बढ़ गयी|

दोनों भाई पलंग के नीचे झुके और वहां रखे हुए बक्से को खींच कर बाहर निकाला| बड़े भाई की पत्नी ने अपने पल्लू में खौंसी हुई चाबी निकाली और अपने पति को दी|

बक्सा खुलते ही तीनों ने बड़ी उत्सुकता से बक्से में झाँका, अंदर चालीस-पचास किताबें रखी थीं| तीनों को सहसा विश्वास नहीं हुआ| बड़े भाई की पत्नी निराशा भरे स्वर में बोली, “मुझे तो पूरा विश्वास था कि, बाबूजी ने कभी अपनी दवाई तक के रुपये नहीं लिये, तो इस बक्से में ज़रूर उनकी बचत के रुपये और गहने रखे होंगे, लेकिन यहाँ तो हमारे विश्वास के साथ…..”

इतने में छोटे भाई ने देखा कि बक्से के कोने में किताबों के साथ एक थैली रखी हुई है, उसने उस थैली को बाहर निकाला| उसमें कुछ रुपये थे, और साथ में एक कागज़| उसने रुपये गिने और उसके बाद कागज़ को पढ़ा, उसमें लिखा था, “मेरे अंतिम संस्कार का खर्च”

Language: Hindi
Tag: लघु कथा
1 Like · 1 Comment · 229 Views
You may also like:
धन तेरस
जगदीश लववंशी
!! मुसाफिर !!
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
“ लूकिंग टू लंदन एण्ड टाकिंग टू टोकियो “
DrLakshman Jha Parimal
✍️बारिश का मज़ा ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
मंगलवत्थू छंद (रोली छंद ) और विधाएँ
Subhash Singhai
बदरा कोहनाइल हवे
सन्तोष कुमार विश्वकर्मा 'सूर्य'
प्यासा का शायर
Shekhar Chandra Mitra
मोहब्बत की बातें।
Taj Mohammad
पितृपक्ष_विशेष
संजीव शुक्ल 'सचिन'
वियोग
पीयूष धामी
मुझे फ़िक्र है तुम्हारी
Dr fauzia Naseem shad
दीवाली की रात सुहानी
Dr Archana Gupta
भय
Shyam Sundar Subramanian
शिक्षक दिवस पर गुरुजनों को शत् शत् नमन 🙏🎉
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Once Again You Visited My Dream Town
Manisha Manjari
भारत का संविधान
rkchaudhary2012
मायका
Anamika Singh
जिंदगी: एक संघर्ष
Aditya Prakash
■ मुक्तक / दिल हार गया
*प्रणय प्रभात*
खांसी की दवाई की व्यथा😄😄
Kaur Surinder
कर रहे शुभकामना...
डॉ.सीमा अग्रवाल
क्या होता है पिता
gurudeenverma198
तीरगी से निबाह करते रहे
Anis Shah
हमदर्द हो जो सबका मददगार चाहिए।
सत्य कुमार प्रेमी
“ राजा और प्रजा ”
DESH RAJ
महेंद्र जी : संस्मरण एवं पुस्तक-समीक्षा
Ravi Prakash
तिरंगे महोत्सव पर दोहे
Ram Krishan Rastogi
क़फ़स
मनोज कर्ण
दोगले मित्र
अमरेश मिश्र 'सरल'
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
Loading...