Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Aug 2022 · 1 min read

खंडहर में अब खोज रहे ।

जग में जो जिंदा हैं,
बिछड़कर कितने गुजर गए ,
बना करके छोड़ गए खंडहर ,
खंडहर में अब खोज रहे ,
अपनों के हकीकत का रहस्य ।

वीरान पड़ा खंडहर का वह कक्ष,
हिलते-डोलते जर्जर-सा वो पट ,
रेशम के जाल से बँधा हुआ छत ,
खंडहर में अब खोज रहे ,
अपनों के हकीकत का रहस्य ।

दफन है राज अभी भी अधूरे हैं,
खोदने में मिलते हैं खंडहर,
कभी जो हकीकत में पूरे हुए,
खंडहर में अब खोज रहे ,
अपनों के हकीकत का रहस्य ।

मासूमियत तो देखो नदानों की,
गुजरे हुए अनमोल शख्स खोज रहे हैं,
मिलता है सिर्फ एहसास बिछड़े हुए का,
खंडहर में अब खोज रहे ,
अपनों के हकीकत का रहस्य ।

बेचैनी इतनी-सी है जमाने की,
खोए हुए से थोड़ा ख्याल पूछ ले,
रह गया शेष भाग यूंँ ही भूल गए ,
खंडहर में अब खोज रहे ,
अपनों के हकीकत का रहस्य ।

रचनाकार-
बुद्ध प्रकाश,
मौदहा हमीरपुर।

4 Likes · 4 Comments · 125 Views
You may also like:
गम्भीर हवाओं का रुख है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अपने ही शहर में बेगाने हम
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
नज़्म – "तेरी आँखें"
nadeemkhan24762
जय-जय भारत!
अनिल मिश्र
Writing Challenge- जल (Water)
Sahityapedia
पहचान के पर अपने उड़ जाना आसमाँ में,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
मोबाईल की लत
शांतिलाल सोनी
याद आते हैं
Dr. Sunita Singh
ऐतबार ।
Anil Mishra Prahari
ख्वाहिश है बस इतना
Anamika Singh
विधवा की प्रार्थना
Er.Navaneet R Shandily
अमृत महोत्सव मनायेंगे
नूरफातिमा खातून नूरी
समय को भी तलाश है ।
Abhishek Pandey Abhi
आम आदमी
Shekhar Chandra Mitra
ग्रह और शरीर
Vikas Sharma'Shivaaya'
मंजिल की उड़ान
AMRESH KUMAR VERMA
बेपनाह रूहे मोहब्बत।
Taj Mohammad
Gazal
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
अफसोस
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
इधर उधर न देख तू
Shivkumar Bilagrami
तेरा एहसास भी
Dr fauzia Naseem shad
दिल यही चाहता है ए मेरे मौला
SHAMA PARVEEN
सरस्वती आरती
संजीव शुक्ल 'सचिन'
गं गणपत्ये! जय कमले!
श्री रमण 'श्रीपद्'
बेचने वाले
shabina. Naaz
ताजा समाचार है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
■ पैनी नज़र, तीखे सवाल
*Author प्रणय प्रभात*
*#महापुरुषों_के_पत्र* (संस्मरण)
Ravi Prakash
रुक-रुक बरस रहे मतवारे / (सावन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
काश अगर तुम हमें समझ पाते
Writer_ermkumar
Loading...