Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-487💐

खंज़र मारो उसे दिल में घुमाना जी भरकर,
दर्द तो होगा हमें,तुम मुस्कुराना जी भरकर,
और कुछ बाक़ी हो जेहन में वह भी कर लो,
हम तो लुटाएंगे मोहब्बत उन पर,जी भरकर।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
264 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कृष्ण भक्ति
कृष्ण भक्ति
लक्ष्मी सिंह
शाहजहां के ताजमहल के मजदूर।
शाहजहां के ताजमहल के मजदूर।
Rj Anand Prajapati
कुछ मुक्तक...
कुछ मुक्तक...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मेरा अक्स तो आब है।
मेरा अक्स तो आब है।
Taj Mohammad
प्लेटफॉर्म
प्लेटफॉर्म
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
एक चेहरा मन को भाता है
एक चेहरा मन को भाता है
कवि दीपक बवेजा
लाश लिए फिरता हूं
लाश लिए फिरता हूं
Ravi Ghayal
मैं
मैं "आदित्य" सुबह की धूप लेकर चल रहा हूं।
Dr. ADITYA BHARTI
रोना
रोना
Dr.S.P. Gautam
चूहा और बिल्ली
चूहा और बिल्ली
Kanchan Khanna
घनाक्षरी छन्द
घनाक्षरी छन्द
शेख़ जाफ़र खान
■ एक विचार-
■ एक विचार-
*Author प्रणय प्रभात*
About my first poem
About my first poem
ASHISH KUMAR SINGH
- मेरा प्रेम कागज,कलम व पुस्तक -
- मेरा प्रेम कागज,कलम व पुस्तक -
bharat gehlot
तुम विद्रोह कब करोगी?
तुम विद्रोह कब करोगी?
Shekhar Chandra Mitra
राम बनना कठिन है
राम बनना कठिन है
Satish Srijan
हम यहाँ  इतने दूर हैं  मिलन कभी होता नहीं !
हम यहाँ इतने दूर हैं मिलन कभी होता नहीं !
DrLakshman Jha Parimal
💐प्रेम कौतुक-475💐
💐प्रेम कौतुक-475💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
टोक्यो ओलंपिक 2021
टोक्यो ओलंपिक 2021
Rakesh Bahanwal
✍️चार दिन की जिंदगी..?✍️
✍️चार दिन की जिंदगी..?✍️
'अशांत' शेखर
छाती पर पत्थर /
छाती पर पत्थर /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कमज़ोर सा एक लम्हा
कमज़ोर सा एक लम्हा
Surinder blackpen
Budhape ki lathi samjhi
Budhape ki lathi samjhi
Sakshi Tripathi
तुम्हें रूठना आता है मैं मनाना सीख लूँगा,
तुम्हें रूठना आता है मैं मनाना सीख लूँगा,
pravin sharma
उम्मीद से भरा
उम्मीद से भरा
Dr.sima
तथागत प्रीत तुम्हारी है
तथागत प्रीत तुम्हारी है
Buddha Prakash
भ्रम
भ्रम
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
पितृ ऋण
पितृ ऋण
Shyam Sundar Subramanian
*सभी ने सत्य यह माना, सभी को एक दिन जाना ((हिंदी गजल/ गीतिका
*सभी ने सत्य यह माना, सभी को एक दिन जाना ((हिंदी गजल/ गीतिका
Ravi Prakash
मतलब नहीं इससे हमको
मतलब नहीं इससे हमको
gurudeenverma198
Loading...