क्षुद्रिकाएँँ

दुश्‍मनी
*****
दु:स्‍वप्‍न सा भर के
गरल आकंंठ
दोनों आखों में ले
तडि़त सौदामनी।

संकल्‍प
*****
संस्‍कार कल्‍प
बदल दे कलेवर तन का
कर ले प्रण उठा के
कुलिश विकल्‍प।

बसन्‍त
****
बस अंत
सभी दर्द, व्‍यथा, घृणा,
द्वेष, दम्‍भ,स्‍वार्थ और
भष्‍टाचार का।
बस अंत, बस अंत
तभी सार्थक बसन्‍त।

प्रेम
***
मन का आह्लाद
प्रीत के निकषण में नेह निनाद
एक चुम्‍बकीय आकर्षण
एक सुखद अनुभूति
जीवन की गूँज और
मौन अभिव्‍यक्ति।

जीवन
*****
‘जी’ ‘वन’ चाहे
‘जीव’ ‘न’ चाहे,
‘जी’ ‘व’ ‘न’ की द्विविधा में
‘जीवनद्ध बीता जाए।

अतिथि
******
अतिथि वो,
जिसके आने की
तिथि
तय न हो।

सत्रह शत्रु हार
**********
काम, क्रोध, मद, लोभ, मोह,
मत्‍सर रिपु के संचार।
द्वेष, असत्‍य, असंयम, गल्‍प,
प्रपंच और करे संहार।
स्‍तेय, स्‍वार्थ, उत्‍कोच, प्रवंचना,
सर्वोपरि विष अहंकार।
जो धारे ये अवगुण सब के सब
सत्रह हैं शत्रु हार।।

2 Comments · 139 Views
You may also like:
यह जिन्दगी है।
Taj Mohammad
सारी दुनिया से प्रेम करें, प्रीत के गांव वसाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नारी है सम्मान।
Taj Mohammad
रावण का प्रश्न
Anamika Singh
# उम्मीद की किरण #
Dr. Alpa H.
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
मजदूर_दिवस_पर_विशेष
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मां का आंचल
VINOD KUMAR CHAUHAN
'आप नहीं आएंगे अब पापा'
alkaagarwal.ag
किस राह के हो अनुरागी
AJAY AMITABH SUMAN
इश्क नज़रों के सामने जवां होता है।
Taj Mohammad
**अनमोल मोती**
Dr. Alpa H.
रसीला आम
Buddha Prakash
पंडित मदन मोहन व्यास की कुंडलियों में हास्य का पुट
Ravi Prakash
नैतिकता और सेक्स संतुष्टि का रिलेशनशिप क्या है ?
Deepak Kohli
*कलम शतक* :कवि कल्याण कुमार जैन शशि
Ravi Prakash
【10】 ** खिलौने बच्चों का संसार **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
ढह गया …
Rekha Drolia
बोलती आँखे...
मनोज कर्ण
पिता बना हूं।
Taj Mohammad
!¡! बेखबर इंसान !¡!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
दंगा पीड़ित
Shyam Pandey
हसद
Alok Saxena
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
Rainbow in the sky 🌈
Buddha Prakash
कितनी पीड़ा कितने भागीरथी
सूर्यकांत द्विवेदी
रोग ने कितना अकेला कर दिया
Dr Archana Gupta
गम हो या हो खुशी।
Taj Mohammad
कहने से
Rakesh Pathak Kathara
माँ गंगा
Anamika Singh
Loading...