Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Aug 2017 · 4 min read

🇭🇺 झाँसी की क्षत्राणी /ब्राह्मण कुल की एवं भारतवर्ष की सर्वश्रेष्ठ वीरांगना

क्षिति पर अंधड़-सा आया,तलवार हाथ ले निकल पड़ी|

देख फिरंगी की छाती पर, अश्व-टाप धर आज चढी|

🪔
सुयश-वीरता खेल खेलती,1️⃣झाँसी की क्षत्राणी थी।

मातृभूमि की जय,जय रानी,बुंदेलों की वाणी थी।

अद्भुत तेज,अपार वीर रस, रोम-रोम पर झलक रहा ।

फँस गया फिरंगी फंदे में मर गया, बचा तो बिलख रहा ।

देखो ! विप्लव के कारण, बैरी की सेना, पिछल पड़ी।

देख फिरंगी की छाती पर अश्व-टाप धर आज चढी ।

क्षिति पर अंधड़-सा आया तलवार हाथ ले निकल पड़ी ।

देख फिरंगी की छाती पर अश्व-टाप धर आज चढी ।

🪔
दत्तक, पृष्ठ भाग पर कस,उत्तर दिश को बढती जाती ।

निकट कालपी, सेना देखी,अश्व गिरा तब घबड़ाती।

रानी नीचे, कांटों से छिद गया सुतन, था हाल बुरा ।

देख सुअवसर अश्व लिया, छलकी आँखें ना देर जरा ।

सच कहूँ समय न था तुरंत ,कालपी त्यागी,विकल घड़ी।

देख फिरंगी की छाती पर अश्व-टाप धर आज चढी ।

क्षिति पर अंधड़-सा आया तलवार हाथ ले निकल पड़ी ।

देख फिरंगी की छाती पर अश्व-टाप धर आज चढी ।

🪔
आगे बढ़ ,डाकू बरजोरा आया ,औ ललकार उठा ।

सीमा के अंदर देखा तो निर्दय मद-सिंह दहाड़ उठा ।

रानी बोली 2️⃣भारतीय क्षत्राणी हूँ, न भेड़ हूँ मैं ।

तेरी गर्जन से डरूँ न हट, वरना तुझे उधेड़ दूँ मैं ।

नारी को आँखें दिखलाता, लगता तेरी अकल सड़ी।

देख फिरंगी की छाती पर अश्व-टाप धर आज चढी ।

क्षिति पर अंधड़-सा आया तलवार हाथ ले निकल पड़ी ।

देख फिरंगी की छाती पर अश्व-टाप धर आज चढी ।

🪔
पीछे गोरों की सेना के, प्यादे आने वाले हैं।

लज्जा खाओ, देश हेतु हम मर-मिट जाने बाले हैं ।

बरजोरा पानी-पानी हो, बोला, जाओ लड़ता हूँ ।

गोरी सेना के सम्मुख,स्व छाती खोल के अड़ता हूँ ।

रानी लक्ष्मीबाई निकली,राष्ट्र-चेतना सबल पड़ी ।

देख फिरंगी की छाती पर अश्व-टाप धर आज चढी ।

क्षिति पर अंधड़-सा आया तलवार हाथ ले निकल पड़ी ।

देख फिरंगी की छाती पर अश्व-टाप धर आज चढी ।

🪔
युद्ध लड़ा बरजोरा ने ,छक्के छूटे शासन के

रोते-चिल्लाते गोरे, हिल गए पैर अनुशासन के।

सेना आई तत्क्षण घेरा, वीर कहे, जय हिंद देश।

तलवार मार ली निज तन में, जय भारत,जय जय स्वदेश।

झाँसी -रानी बच जाए, मैं मरूं न दुख ,तब सफल घड़ी ।

देख फिरंगी की छाती पर अश्व-टाप धर आज चढी ।

क्षिति पर अंधड़-सा आया तलवार हाथ ले निकल पड़ी ।

देख फिरंगी की छाती पर अश्व-टाप धर आज चढी ।

🪔
राम लला मंदिर-फाटक पर ,लक्ष्मीबाई खड़ी हुई ।

कोंच नगर अति धन्य हुआ, शुभ जयकारों की झड़ी हुई ।

तब तक गोरों की सेना ने, कोंच -किनारा घेर लिया ।

हुआ भयंकर युद्ध, जवानों ने, उन सबको ढेर किया ।

यह क्या ,सेना पुनि से आई, शत्रु-चाल कुछ सबल पड़ी।

देख फिरंगी की छाती पर अश्व-टाप धर आज चढी ।

क्षिति पर अंधड़-सा आया तलवार हाथ ले निकल पड़ी ।

देख फिरंगी की छाती पर अश्व-टाप धर आज चढी ।

🪔
झाँसी -रानी निकल पड़ी, अविरल खूनी संग्राम हुआ ।

मारा,काटा,रूँदा,घेरा,बैरी डर -आयाम हुआ।

रानी ने शौर्य दिखाया तो,गूँज गया विजयी निनाद ।

तात्या का शुभ संग मिला, हो गया जीत का शंखनाद ।

फिर इक किला, ग्वालियर का भी,जीता,यह उपलब्धि बड़ी।

देख फिरंगी की छाती पर अश्व-टाप धर आज चढी ।

क्षिति पर अंधड़-सा आया तलवार हाथ ले निकल पड़ी।

देख फिरंगी की छाती पर अश्व-टाप धर आज चढी ।

🪔
जून ,अठारह सौ अट्ठावन, घेर लिया पुनि रानी को ।

3️⃣कोटा की सराई, ग्वालियर,फूलवाग में प्राणी को

मिली वीरगति, अश्रु आ गए ,4️⃣रामचंद्र रो रहा आज ।

यह चर्चा आग-सदृश फैली, रोता भारत का समाज ।

मातृ-सुतल को कर प्रणाम,सुर लोक गई,अति विकल घड़ी ।

देख फिरंगी की छाती पर अश्व-टाप धर आज चढी ।

क्षिति पर अंधड़-सा आया,तलवार हाथ ले निकल पड़ी ।

देख फिरंगी की छाती पर अश्व-टाप धर आज चढी ।

🪔
रानी के तन को छुपा रहे, 4️⃣राव आर सी झाडी में ।

छीने ना अंग्रेज ,लपेटा इसीलिए मुह साडी में ।

अवसर गह छिप-छिप कर निकले, मिली शहर तट इक कुटिया ।

जला झोपड़ी सहित आज शव, रानी का लघु – वाड़ी में ।

जन-आँसू अनवरत बहें, ग्वालियर रो रही खड़ी खड़ी।

देख फिरंगी की छाती पर अश्व-टाप धर आज चढी ।

क्षिति पर अंधड़ -सा आया तलवार हाथ ले निकल पड़ी ।

देख फिरंगी की छाती पर अश्व-टाप धर आज चढी।

🪔
गोरों के भय के कारण, शव जला त्रास-वस कुटिया में ।

किंतु सजगता-आँख खुल गई, आग लगी जन-चुटिया में ।

आँख चढ गई, चेता भारत, उगा एकता का सूरज ।

तरुण कह रहे उठो-बढो, झोंको बैरी को भटिया में ।

शोषण-ऊधम के खिलाफ, सचमुच जनता हो गई खड़ी ।

देख! फिरंगी की छाती पर अश्व-टाप धर आज चढी ।

क्षिति पर अंधड़-सा आया तलवार हाथ ले निकल पड़ी ।

देख ! फिरंगी की छाती पर अश्व-टाप धर आज चढी ।
…………………………………………………
🦜शब्दार्थ

1️⃣झाँसी की क्षत्राणी = झाँसी की वीरांगना/वीर नारी
2️⃣भारतीय क्षत्राणी=भारत की वीर नारी/वीरांगना

3️⃣कोटा की सराई=ग्वालियर का फूलवाग क्षेत्र

4️⃣रामचंद्र /राव आर सी =श्री राम चंद्र राव ,रानी लक्ष्मीबाई का अंग रक्षक

………………………………………………………………

💙उक्त रचना को “जागा हिंदुस्तान चाहिए” कृति के द्वितीय संस्करण के अनुसार परिष्कृत किया गया है।

💙 “जागा हिंदुस्तान चाहिए”कृति/काव्य संग्रह का द्वितीय संस्करण अमेजोन एवं फ्लिप्कार्ट पर उपलब्ध है।

,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
पं बृजेश कुमार नायक

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 9827 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to get all the exciting updates about our writing competitions, latest published books, author interviews and much more, directly on your phone.
Books from Pt. Brajesh Kumar Nayak
View all
You may also like:
सूझ बूझ
सूझ बूझ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अविकसित अपनी सोच को
अविकसित अपनी सोच को
Dr fauzia Naseem shad
चेहरा
चेहरा
नन्दलाल सुथार "राही"
23 मार्च
23 मार्च
Shekhar Chandra Mitra
मुक्तक
मुक्तक
पंकज कुमार कर्ण
ख़ुलूसो - अम्न के साए में काम करती हूँ
ख़ुलूसो - अम्न के साए में काम करती हूँ
Dr Archana Gupta
अजनवी
अजनवी
Satish Srijan
आहटें तेरे एहसास की हवाओं के साथ चली आती हैं,
आहटें तेरे एहसास की हवाओं के साथ चली आती हैं,
Manisha Manjari
आज तन्हा है हर कोई
आज तन्हा है हर कोई
Anamika Singh
परिवार के दोहे
परिवार के दोहे
सूर्यकांत द्विवेदी
कहना है तो ऐसे कहो, कोई न बोले चुप।
कहना है तो ऐसे कहो, कोई न बोले चुप।
Yogendra Chaturwedi
फंस गया हूं तेरी जुल्फों के चक्रव्यूह मैं
फंस गया हूं तेरी जुल्फों के चक्रव्यूह मैं
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
#बह_रहा_पछुआ_प्रबल, #अब_मंद_पुरवाई!
#बह_रहा_पछुआ_प्रबल, #अब_मंद_पुरवाई!
संजीव शुक्ल 'सचिन'
विकास का ढिंढोरा पीटने वाले ,
विकास का ढिंढोरा पीटने वाले ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
*कोहरा बहुत जरूरी(बाल कविता)*
*कोहरा बहुत जरूरी(बाल कविता)*
Ravi Prakash
* रेत समंदर के...! *
* रेत समंदर के...! *
VEDANTA PATEL
हसरतों के गांव में
हसरतों के गांव में
Harminder Kaur
ये जी चाहता है।
ये जी चाहता है।
Taj Mohammad
गुजरते हुए उस गली से
गुजरते हुए उस गली से
Surinder blackpen
सवालिया जिंदगी
सवालिया जिंदगी
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
2697.*पूर्णिका*
2697.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तभी लोगों ने संगठन बनाए होंगे
तभी लोगों ने संगठन बनाए होंगे
Maroof aalam
■ फ़ासले...!
■ फ़ासले...!
*Author प्रणय प्रभात*
निराली है तेरी छवि हे कन्हाई
निराली है तेरी छवि हे कन्हाई
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Tumko pane ki hasrat hi to thi ,
Tumko pane ki hasrat hi to thi ,
Sakshi Tripathi
*तुम साँझ ढले चले आना*
*तुम साँझ ढले चले आना*
Shashi kala vyas
माँ की यादें
माँ की यादें
मनोज कर्ण
इस घर से .....
इस घर से .....
sushil sarna
"मां की ममता"
Pushpraj Anant
"अकेला काफी है तू"
कवि दीपक बवेजा
Loading...