Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Dec 2022 · 1 min read

💐क्रिया वास्तविकतायां जड़:💐

क्रिया वास्तविकतायां जड़ भवतु।परं उद्देश्य: जड़: न भवेयु:।करणं च अकरणं च-द्वौ एव जड़ौ।तत्त्वं द्वाभ्यां अतीत:-‘नैव तस्य कृतेनार्थो नाकृतेनेह कश्चन'(गीता 3/18)।मुख्यता उद्देश्यस्य।परमात्मतत्वे यदा कर्तृत्वं एव न तदा करणस्य शुद्धि: च अशुद्धि: च इत्यो: एतस्मिन् किम् अर्थम्? सर्वाणि करकाणि प्रकृत्या: कार्यम्।कारकं क्रियायाः सिद्धयां कार्ये आगच्छन्ति,क्रियया अतीते कदा कार्यं आगमिष्यति?
परमात्मा प्राप्तयाः कृते शुद्धअन्तःकरणस्य किं अपि आवश्यकता न-इत्थं श्रुत्वा यः निषिद्ध: कार्यं कुर्वन्ति अर्थात् एतस्य सिद्धान्तस्य दुरुपयोग: करोति तु सः कल्याणं कर्तुं न इच्छन्ति।सः तु भोगः भुनक्तुं इच्छन्ति।

©®अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Sanskrit
57 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मीठी नींद नहीं सोना
मीठी नींद नहीं सोना
Dr. Meenakshi Sharma
सामने मेहबूब हो और हम अपनी हद में रहे,
सामने मेहबूब हो और हम अपनी हद में रहे,
Vishal babu (vishu)
शेयर मार्केट में पैसा कैसे डूबता है ?
शेयर मार्केट में पैसा कैसे डूबता है ?
Rakesh Bahanwal
हमने जब तेरा
हमने जब तेरा
Dr fauzia Naseem shad
💐प्रेम कौतुक-309💐
💐प्रेम कौतुक-309💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दोहा -स्वागत
दोहा -स्वागत
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कैसे कह दूं मुझे उनसे प्यार नही है
कैसे कह दूं मुझे उनसे प्यार नही है
Ram Krishan Rastogi
*शिकायतें तो बहुत सी है इस जिंदगी से ,परंतु चुप चाप मौन रहकर
*शिकायतें तो बहुत सी है इस जिंदगी से ,परंतु चुप चाप मौन रहकर
Shashi kala vyas
माँ
माँ
Kamal Deependra Singh
बेशक खताये बहुत है
बेशक खताये बहुत है
shabina. Naaz
■ कामयाबी का नुस्खा...
■ कामयाबी का नुस्खा...
*Author प्रणय प्रभात*
अधूरी हसरतें
अधूरी हसरतें
Surinder blackpen
अब उठो पार्थ हुंकार करो,
अब उठो पार्थ हुंकार करो,
अनूप अम्बर
बहें हैं स्वप्न आँखों से अनेकों
बहें हैं स्वप्न आँखों से अनेकों
सिद्धार्थ गोरखपुरी
माँ बहन बेटी के मांनिद
माँ बहन बेटी के मांनिद
Satish Srijan
"शाश्वत"
Dr. Kishan tandon kranti
#करना है, मतदान          हमको#
#करना है, मतदान हमको#
Dushyant Kumar
Bhut khilliya udwa  li khud ki gairo se ,
Bhut khilliya udwa li khud ki gairo se ,
Sakshi Tripathi
अब भी दुनिया का सबसे कठिन विषय
अब भी दुनिया का सबसे कठिन विषय "प्रेम" ही है
DEVESH KUMAR PANDEY
आग उगलती मेरी क़लम
आग उगलती मेरी क़लम
Shekhar Chandra Mitra
पसरी यों तनहाई है
पसरी यों तनहाई है
Dr. Sunita Singh
मैं जिसको ढूंढ रहा था वो मिल गया मुझमें
मैं जिसको ढूंढ रहा था वो मिल गया मुझमें
Aadarsh Dubey
2327.पूर्णिका
2327.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
चाय जैसा तलब हैं मेरा ,
चाय जैसा तलब हैं मेरा ,
Rohit yadav
बदतमीज
बदतमीज
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वह सिर्फ पिता होता है
वह सिर्फ पिता होता है
Dinesh Gupta
स्वयं का न उपहास करो तुम , स्वाभिमान की राह वरो तुम
स्वयं का न उपहास करो तुम , स्वाभिमान की राह वरो तुम
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*वोट डालकर आओ भइया (हिंदी गजल/ गीतिका)*
*वोट डालकर आओ भइया (हिंदी गजल/ गीतिका)*
Ravi Prakash
विनय
विनय
Kanchan Khanna
दोस्त मेरे यार तेरी दोस्ती का आभार
दोस्त मेरे यार तेरी दोस्ती का आभार
Anil chobisa
Loading...