Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 30, 2021 · 1 min read

क्यों पड़े हो सुप्त ?

उठो हो जाओ जागृत ,
क्यों पड़े हो सुप्त ?
अपने अर्जन से निर्जन में करो सृजन ,
काल – रज्जु के नर्तन का निर्भय हो करो मर्दन ,
निज में दृढ़ता ला कर
करो नया परिवर्तन ,
अर्पण कर निराशा का
वरण कर लो आशा का ,
जीवंत हो जाओ
और कर दो पाप का अंत ,
जीवन – पर्यन्त हार न मानो
फिर जय पहुंचेगी निश्चय ही
उस नील नीलाभ अनंत तक |

द्वारा – नेहा ‘आज़ाद’

1 Like · 150 Views
You may also like:
*** चल अकेला.......!!! ***
VEDANTA PATEL
मैं ही बेगूसराय
Varun Singh Gautam
" शरारती बूंद "
Dr Meenu Poonia
नजर तो मुझको यही आ रहा है
gurudeenverma198
सोचो जो बेटी ना होती
लक्ष्मी सिंह
गमों के समंदर में।
Taj Mohammad
आया सावन - पावन सुहवान
Rj Anand Prajapati
अग्निवीर
पाण्डेय चिदानन्द
✍️कृपया पुरुस्कार डाक से भिजवा दो!✍️
'अशांत' शेखर
ए ! सावन के महीने क्यो मचाता है शोर
Ram Krishan Rastogi
बेटी का पत्र माँ के नाम (भाग २)
Anamika Singh
हमने वफ़ा निभाई है।
Taj Mohammad
जोशवान मनुष्य
AMRESH KUMAR VERMA
*स्मृति डॉ. उर्मिलेश*
Ravi Prakash
हमको समझ ना पाए।
Taj Mohammad
*दर्शन प्रभुजी दिया करो (गीत भजन)*
Ravi Prakash
मिसाइल मैन
Anamika Singh
"कभी मेरा ज़िक्र छिड़े"
Lohit Tamta
बाजारों में ना बिकती है।
Taj Mohammad
खुदा भेजेगा ज़रूर।
Taj Mohammad
तेरी याद में
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नास्तिक सदा ही रहना...
मनोज कर्ण
✍️आईने लापता मिले✍️
'अशांत' शेखर
अविरल
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चाय-दोस्ती - कविता
Kanchan Khanna
लिखता जा रहा है वह
gurudeenverma198
ज्योति : रामपुर उत्तर प्रदेश का सर्वप्रथम हिंदी साप्ताहिक
Ravi Prakash
(स्वतंत्रता की रक्षा)
Prabhudayal Raniwal
✍️पवित्र गीता✍️
'अशांत' शेखर
ख्वाब को बाँध दो
Anamika Singh
Loading...