Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

!!!—क्यों छोड़ा था तूने अपना ये गाँव जरा लिखना–!!!

!!!—क्यों छोड़ा था तूने अपना ये गाँव जरा लिखना–!!!

शहर जाकर ऐ मेरे दोस्त अपना पता लिखना !
क्यों छोड़ा था तूने अपना ये गाँव जरा लिखना !!

क्या अब स्वाद नही रहा चूल्हे की जली रोटी में !
क्यों खफा हुआ इस आबो हवा से जरा लिखना !!

माना के चंद कागज़ के टुकड़े की कमी थी यहाँ पर !
मिल जाए गर सुकून मेरे गावों जैसा जरा लिखना !!

कहने को होंगे बहुत से खजाने कुबेर के तेरे शहर मैं !
मिल जाए मिटटी में खुसबू यहाँ जैसी जरा लिखना !!

यंहा रोज़ लड़ता था माँ से, बात-बात पे बिगड़ता था !
पड़ी वो मार चिमटे की आये जो याद जरा लिखना !!

सुना है बहुत सलीका है तेरे शहर में जिंदगी जीने का !
सो सके चैन की नींद जिस दिन वहां पर जरा लिखना !!

खान पान के मिलेंगे बहुत तरीके शहर में नए नए !
बुझा सके प्यास कुए के नीर जैसी तो जरा लिखना !!

कहते है बड़ी मन लुभावन होती है शहर की चकाचौंध !
दिये सी उभरती परछाई तू देख सके, तो जरा लिखना !!

वैसे तो हमदर्द बहुत होंगे तेरे इर्द गिर्द तुझे सँभालने को !
मिल जाए वफ़ादार तेरे घर के पशुओ जैसा जरा लिखना !!

वैसे तो भीड़ बहुत होगी तेरे शहर में अनजाने लोगो की !
मिल जाए वहां कोई दिलबर मुझ सा, तो जरा लिखना !!

यूँ तो रहोगे मशगूल बहुत अपने आपमें भूलकर सब कुछ !
कभी तन्हाई में आये याद इस यार की, तो जरा लिखना !!

शहर जाकर ऐ मेरे दोस्त अपना पता लिखना !
क्यों छोड़ा था तूने अपना ये गाँव जरा लिखना !!

डी. के. निवातियाँ__________!!!

281 Views
You may also like:
और जीना चाहता हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सच और झूठ
श्री रमण 'श्रीपद्'
इन्सानियत ज़िंदा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रावण - विभीषण संवाद (मेरी कल्पना)
Anamika Singh
कण-कण तेरे रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
जीवन की दुर्दशा
Dr fauzia Naseem shad
पढ़वा लो या लिखवा लो (शिक्षक की पीड़ा का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तुम्हीं हो मां
Krishan Singh
कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जिन्दगी का जमूरा
Anamika Singh
वेदों की जननी... नमन तुझे,
मनोज कर्ण
पिता मेरे /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
सोच तेरी हो
Dr fauzia Naseem shad
नदी को बहने दो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गंगा दशहरा
श्री रमण 'श्रीपद्'
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
कोई एहसास है शायद
Dr fauzia Naseem shad
“ तेरी लौ ”
DESH RAJ
✍️यूँही मैं क्यूँ हारता नहीं✍️
'अशांत' शेखर
हिन्दी साहित्य का फेसबुकिया काल
मनोज कर्ण
पिता
Neha Sharma
Security Guard
Buddha Prakash
काश बचपन लौट आता
Anamika Singh
दिल ज़रूरी है
Dr fauzia Naseem shad
आ ख़्वाब बन के आजा
Dr fauzia Naseem shad
ख़्वाब आंखों के
Dr fauzia Naseem shad
जिंदगी
Abhishek Pandey Abhi
बरसात की झड़ी ।
Buddha Prakash
Loading...