Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 30, 2021 · 1 min read

क्यूँ

हर दिल में झंझावात और
तूफान क्यूँ।
सन्नाटे में हर दरो दीवार व
मकान क्यूँ।
बेबस ,लाचार ,भयभीत हर
इंसान क्यूँ।
अपनों के लिए अपना ही
हुआ अछूत क्यूँ।
सुहागिन अंत समय ले जाती
सूनी माँग क्यूँ।
झूलते थे जिन कंधों पर
बचपन में आज क्यूँ।
वो कंधे बिन कांधे जाने को
मजबूर क्यूँ।
जिनकी वजह से थी बूढ़ी
आंखों में चमक क्यूँ।
उन्हें वह बेवजह बेसहारा
कर जाते क्यूँ।
हर तरफ चीत्कार आंसुओ
का सैलाब क्यूँ।
वहशी कर रहे जीवन से
बाजीगरी क्यूँ।
सकारात्मक हो कर लोग
नकारात्मक हो रहे क्यूँ।
नकारात्मक हो आशा से
सकारात्मक हो रहे क्यूँ।
प्रभु संसार में उलटबांसी
यह चल रही क्यूँ ।
अब कौन सा मंजर देखना
बाकी है ,
हे प्रभु क्या कोई प्रलय
आने वाली है ।

प्रतिलिपि अधिकार
कंचन प्रजापति

148 Views
You may also like:
परित्यक्ता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
श्री अग्रसेन भागवत ः पुस्तक समीक्षा
Ravi Prakash
इश्क ए बंदगी में।
Taj Mohammad
- मेरा प्रेम कागज,कलम व पुस्तक -
bharat gehlot
देश के हित मयकशी करना जरूरी है।
सत्य कुमार प्रेमी
पहचान
Anamika Singh
बुजुर्गो की बात
AMRESH KUMAR VERMA
"कारगिल विजय दिवस"
Lohit Tamta
पुस्तक समीक्षा -एक थी महुआ
Rashmi Sanjay
कलयुग की माया
डी. के. निवातिया
करो नहीं व्यर्थ तुम,यह पानी
gurudeenverma198
【31】{~} बच्चों का वरदान निंदिया {~}
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
🌺प्रेम की राह पर-58🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हम भी हैं महफ़िल में।
Taj Mohammad
खुदा बना दे।
Taj Mohammad
कोई मंझधार में पड़ा हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
पिता का महत्व
ओनिका सेतिया 'अनु '
गरीब आदमी।
Taj Mohammad
Waqt
ananya rai parashar
✍️यूँही मैं क्यूँ हारता नहीं✍️
"अशांत" शेखर
कभी-कभी / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
समझना तुझे है अगर जिंदगी को।
सत्य कुमार प्रेमी
तिरंगा चूमता नभ को...
अश्क चिरैयाकोटी
बदल कर टोपियां अपनी, कहीं भी पहुंच जाते हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
शिव स्तुति
अभिनव मिश्र अदम्य
नीति के दोहे 2
Rakesh Pathak Kathara
पुस्तक समीक्षा -'जन्मदिन'
Rashmi Sanjay
इतना न कर प्यार बावरी
Rashmi Sanjay
Father's Compassion
Buddha Prakash
फेहरिस्त।
Taj Mohammad
Loading...