Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 25, 2022 · 1 min read

#क्या_पता_मैं_शून्य_हो_जाऊं

अब ना करो नज़र अंदाज़
कोई तो कर लो मुझसे बात
क्या पता मैं शून्य हो जाऊं
बचपन भी ना रहा मेरा कुछ खास
दुख , दर्द , पीड़ा ने भी न छोड़ा मेरा साथ
पर कुछ अपने थे , जो थे मेरा सहारा
पर अब वो भी करते है हमसे किनारा
क्या पता मैं शून्य न हो जाऊं

पर ऐक बारी
लेना चाहता हू
मेरी माँ का आशीर्वाद
पिताजी से भी खाना चाहता हूँ
वो पहले वाली डांट
भाई को भी बता दू अब
मैं हु बिल्कुल अधूरा
कर ना पाया उनके सपनो को पूरा
उन दोस्तो से भी करलू इक बारी मुलाकात
बात करने का time नही था जिनके पास
क्या पता मैं शून्य हो जाऊ
थाम लो मेरा हाथ
ना छोड़ो मेरा साथ
ना छोड़ो मेरा साथ

✍️ D.k math

1 Like · 2 Comments · 87 Views
You may also like:
सावन आया आई बहार
Anamika Singh
क़िस्मत का सितारा।
Taj Mohammad
आम ही आम है !
हरीश सुवासिया
एहसासों से हो जिंदा
Buddha Prakash
गुणगान क्यों
spshukla09179
आ सजाऊँ भाल पर चंदन तरुण
Pt. Brajesh Kumar Nayak
चाय की चुस्की
Buddha Prakash
कसूर किसका
Swami Ganganiya
धारणाएँ टूट कर बिखर जाती हैं।
Manisha Manjari
लॉकडाउन गीतिका
Ravi Prakash
हम और तुम जैसे…..
Rekha Drolia
दिया और हवा
Anamika Singh
“ शिष्टता के धेने रहू ”
DrLakshman Jha Parimal
✍️दिल में ही रहता हूं✍️
'अशांत' शेखर
मिठाई मेहमानों को मुबारक।
Buddha Prakash
तेरा चलना ओए ओए ओए
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
अग्निवीर
पाण्डेय चिदानन्द
प्रिय
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
सपनों का महल
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
मुश्किलात
Gaurav Dehariya साहित्य गौरव
देखा जो हुस्ने यार तो दिल भी मचल गया।
सत्य कुमार प्रेमी
"आज बहुत दिनों बाद"
Lohit Tamta
जीवन में ही सहे जाते हैं ।
Buddha Prakash
वो पत्थर
shabina. Naaz
'मेरी यादों में अब तक वे लम्हे बसे'
Rashmi Sanjay
भूख
Varun Singh Gautam
✍️जिंदगी का फ़लसफ़ा✍️
'अशांत' शेखर
गजल क्या लिखूँ कोई तराना नहीं है
VINOD KUMAR CHAUHAN
कहने से
Rakesh Pathak Kathara
माफी मैं नहीं मांगता
gurudeenverma198
Loading...