Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

क्या होता है बचपन ऐसा

कविता

मम्मी से सुनी उसके बचपन की कहानी
सुन कर हुई बडी हैरानी
क्या होता है बचपन ऐसा
उड्ती फिरती तितली जैसा
मेरे कागज की तितली में
तुम ही रंग भर जाओ ना

नानी ज्ल्दी आओ ना

अपने हाथों से झूले झुलाना
बाग बगीचे पेड दिखाना
सूरज केसे उगता है
केसे चांद पिघलता है
परियां कहाँ से आती हैं
चिडिया केसे गाती है
मुझ को भी समझाओ ना

नानी जल्दी आओ ना

गोदीमेंले कर दूध पिलाना
लोरी दे कर मुझे सुलाना
नित नये पकवान खिलाना
अच्छी अच्छी कथा सुनाना
अपने हाथ की बनी खीर का
मुझे स्वाद चखाओ ना

नानी जल्दी आओ ना

अपना हाल सुना नहीं सकता
बसते का भार उठा नही सकता
तुम हीघोडी बन कर
इसका भार उठाओ ना

नानी ज्ल्दी आओ ना

मेरा बचपन क्यों रूठ गया है
मुझ से क्या गुनाह हुअ है
मेरी नानी प्यारी नानी
माँ जेसा बचपन लाओ ना

नानी ज्ल्दी आओ ना

3 Comments · 417 Views
You may also like:
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कण-कण तेरे रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️पढ़ना ही पड़ेगा ✍️
Vaishnavi Gupta
पेशकश पर
Dr fauzia Naseem shad
बिछड़ कर किसने
Dr fauzia Naseem shad
प्यार
Anamika Singh
ऐ मां वो गुज़रा जमाना याद आता है।
Abhishek Pandey Abhi
जिस नारी ने जन्म दिया
VINOD KUMAR CHAUHAN
पिता तुम हमारे
Dr. Pratibha Mahi
जंगल के राजा
Abhishek Pandey Abhi
ठोकरों ने समझाया
Anamika Singh
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
*पापा … मेरे पापा …*
Neelam Chaudhary
"निर्झर"
Ajit Kumar "Karn"
''प्रकृति का गुस्सा कोरोना''
Dr Meenu Poonia
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
Little sister
Buddha Prakash
पिता का दर्द
Nitu Sah
सच और झूठ
श्री रमण 'श्रीपद्'
रोटी संग मरते देखा
शेख़ जाफ़र खान
✍️बदल गए है ✍️
Vaishnavi Gupta
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
तू कहता क्यों नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
उतरते जेठ की तपन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
भगवान हमारे पापा हैं
Lucky Rajesh
A wise man 'The Ambedkar'
Buddha Prakash
हवा-बतास
आकाश महेशपुरी
आइना हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कहीं पे तो होगा नियंत्रण !
Ajit Kumar "Karn"
'दुष्टों का नाश करें' (ओज - रस)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
Loading...