Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-307💐

क्या हुआ था क्यों रहम नहीं आया था उस दिन,
कौन निकालेगा ख़ंजर जो समा गया था उस दिन,

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
47 Views
You may also like:
*मुक्तक*
*मुक्तक*
LOVE KUMAR 'PRANAY'
Kudrat taufe laya hai rang birangi phulo ki
Kudrat taufe laya hai rang birangi phulo ki
Sakshi Tripathi
Never trust people who tells others secret
Never trust people who tells others secret
Md Ziaulla
रूपेश को मिला
रूपेश को मिला "बेस्ट राईटर ऑफ द वीक सम्मान- 2023"
रुपेश कुमार
श्री नेता चालीसा (एक व्यंग्य बाण)
श्री नेता चालीसा (एक व्यंग्य बाण)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
💐प्रेम कौतुक-552💐
💐प्रेम कौतुक-552💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दिल में आग , जिद और हौसला बुलंद,
दिल में आग , जिद और हौसला बुलंद,
कवि दीपक बवेजा
सुना है सपने सच होते हैं।
सुना है सपने सच होते हैं।
Shyam Pandey
सजदे में झुकते तो हैं सर आज भी, पर मन्नतें मांगीं नहीं जातीं।
सजदे में झुकते तो हैं सर आज भी, पर मन्नतें मांगीं नहीं जातीं।
Manisha Manjari
*लगे जो प्रश्न सच, उस प्रश्न को उत्तर से हल देना 【मुक्तक】*
*लगे जो प्रश्न सच, उस प्रश्न को उत्तर से हल देना 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
दोहे एकादश...
दोहे एकादश...
डॉ.सीमा अग्रवाल
लाख कोशिश की थी अपने
लाख कोशिश की थी अपने
'अशांत' शेखर
मजबूरी तो नहीं
मजबूरी तो नहीं
Mahesh Tiwari 'Ayen'
तेरे हक़ में ही
तेरे हक़ में ही
Dr fauzia Naseem shad
' मौन इक सँवाद '
' मौन इक सँवाद '
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
अजीब सूरते होती है
अजीब सूरते होती है
Surinder blackpen
अक्ल के दुश्मन
अक्ल के दुश्मन
Shekhar Chandra Mitra
नारी
नारी
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
कलाम को सलाम
कलाम को सलाम
Satish Srijan
खूबसूरत चेहरे
खूबसूरत चेहरे
Prem Farrukhabadi
■ मुक्तक / पुरुषार्थ ही जीवंतता
■ मुक्तक / पुरुषार्थ ही जीवंतता
*Author प्रणय प्रभात*
वो कत्ल कर दिए,
वो कत्ल कर दिए,
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
लहर
लहर
Shyam Sundar Subramanian
रिश्तों को नापेगा दुनिया का पैमाना
रिश्तों को नापेगा दुनिया का पैमाना
Anil chobisa
तुम्हारे आगे, गुलाब कम है
तुम्हारे आगे, गुलाब कम है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सुबह की चाय है इश्क,
सुबह की चाय है इश्क,
Aniruddh Pandey
*पानी व्यर्थ न गंवाओ*
*पानी व्यर्थ न गंवाओ*
Dushyant Kumar
मन हमेशा इसी बात से परेशान रहा,
मन हमेशा इसी बात से परेशान रहा,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
एक दिन
एक दिन
Ranjana Verma
जो बनना चाहते हो
जो बनना चाहते हो
dks.lhp
Loading...