Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Feb 2023 · 1 min read

💐अज्ञात के प्रति-132💐

क्या हुआ इतना क्यों डर गए इश्क़ से?
वक़्त बड़ा लगे या उनकी खामोशियाँ।

©®अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Hindi
132 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
✍️कृपया पुरुस्कार डाक से भिजवा दो!✍️
✍️कृपया पुरुस्कार डाक से भिजवा दो!✍️
'अशांत' शेखर
चिट्ठी   तेरे   नाम   की, पढ लेना करतार।
चिट्ठी तेरे नाम की, पढ लेना करतार।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
किस किस को वोट दूं।
किस किस को वोट दूं।
Dushyant Kumar
"कलयुग का मानस"
Dr Meenu Poonia
ख़ामोश सी नज़र में
ख़ामोश सी नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
साज़िश
साज़िश
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कुछ बेशकीमती छूट गया हैं तुम्हारा, वो तुम्हें लौटाना चाहता हूँ !
कुछ बेशकीमती छूट गया हैं तुम्हारा, वो तुम्हें लौटाना चाहता हूँ !
The_dk_poetry
चढ़ती उम्र
चढ़ती उम्र
rkchaudhary2012
अतिथि तुम कब जाओगे
अतिथि तुम कब जाओगे
Gouri tiwari
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
अपने हुए पराए लाखों जीवन का यही खेल है
अपने हुए पराए लाखों जीवन का यही खेल है
प्रेमदास वसु सुरेखा
रक्त से सीचा मातृभूमि उर,देकर अपनी जान।
रक्त से सीचा मातृभूमि उर,देकर अपनी जान।
Neelam Sharma
** थोड़े मे **
** थोड़े मे **
Swami Ganganiya
चेहरे उजले ,और हर इन्सान शरीफ़ दिखता है ।
चेहरे उजले ,और हर इन्सान शरीफ़ दिखता है ।
Ashwini sharma
"तुम्हारी गली से होकर जब गुजरता हूं,
Aman Kumar Holy
सियासी बातें
सियासी बातें
Shriyansh Gupta
*साला-साली मानिए ,सारे गुण की खान (हास्य कुंडलिया)*
*साला-साली मानिए ,सारे गुण की खान (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
गीत
गीत
Mahendra Narayan
💐प्रेम कौतुक-183💐
💐प्रेम कौतुक-183💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
#एक_कविता
#एक_कविता
*Author प्रणय प्रभात*
बर्दाश्त की हद
बर्दाश्त की हद
Shekhar Chandra Mitra
अबीर ओ गुलाल में अब प्रेम की वो मस्ती नहीं मिलती,
अबीर ओ गुलाल में अब प्रेम की वो मस्ती नहीं मिलती,
Er. Sanjay Shrivastava
"मेरे किसान बंधु चौकड़िया'
Ms.Ankit Halke jha
"अमृत और विष"
Dr. Kishan tandon kranti
यह जो तुम बांधती हो पैरों में अपने काला धागा ,
यह जो तुम बांधती हो पैरों में अपने काला धागा ,
श्याम सिंह बिष्ट
इन आँखों को भी अब हकीम की जरूरत है..
इन आँखों को भी अब हकीम की जरूरत है..
Tarun Garg
मैं भारत हूं (काव्य)
मैं भारत हूं (काव्य)
AMRESH KUMAR VERMA
बदरा कोहनाइल हवे
बदरा कोहनाइल हवे
सन्तोष कुमार विश्वकर्मा 'सूर्य'
ग़ज़ल/नज़्म - उसके सारे जज़्बात मद्देनजर रखे
ग़ज़ल/नज़्म - उसके सारे जज़्बात मद्देनजर रखे
अनिल कुमार
प्रीति के दोहे, भाग-3
प्रीति के दोहे, भाग-3
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Loading...