Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 May 2023 · 1 min read

क्या सोचूं मैं तेरे बारे में

क्या सोचूं मैं तेरे बारे में,
नहीं है इतनी फुरसत मुझको,
तेरी तरह ही फंसा हुआ हूँ मैं,
अपनी इच्छाओं के मकड़जाल में,
गुमराह हूँ अपने सपनों में,
हवा के साथ चलने के लिए,
शेष कुछ भी नहीं रखने के लिए,
तस्वीर अपनी बदल रहा हूँ।

क्या सोचूं मैं तेरे बारे में,
खामोश हूँ तेरी तरह मैं भी,
और कर रहा हूँ सामना मैं भी,
बदलती हुई परिस्थितियों का,
सह रहा हूँ मैं भी पीड़ाएँ,
मेरी बदनामी और बर्बादी की,
जो कल को हुई थी,
लेकिन किसको दूँ दोष इसका।

क्या सोचूं मैं तेरे बारे में,
कर रहा हूँ मैं भी कोशिश,
मिटाने के लिए गलतफहमियां,
जिनसे पैदा हुई है दूरियां,
उकसाने वाले तो बहुत है,
तुमने क्या सोचा है मेरे बारे में,
और मुझको क्या करना है अब,
काम नहीं करता है मेरा दिलोदिमाग।
क्या सोचूं मैं तेरे बारे में———————।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
1 Like · 97 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रभु राम मेरे सपने मे आये संग मे सीता माँ को लाये
प्रभु राम मेरे सपने मे आये संग मे सीता माँ को लाये
Satyaveer vaishnav
*मतलब डील है (गीतिका)*
*मतलब डील है (गीतिका)*
Ravi Prakash
जीवन हमारा रैन बसेरा
जीवन हमारा रैन बसेरा
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
हथिनी की व्यथा
हथिनी की व्यथा
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
शृंगार छंद और विधाएं
शृंगार छंद और विधाएं
Subhash Singhai
तुम्हें देखा
तुम्हें देखा
Anamika Singh
कविता : 15 अगस्त
कविता : 15 अगस्त
Prabhat Pandey
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
मैं तो महज तकदीर हूँ
मैं तो महज तकदीर हूँ
VINOD KUMAR CHAUHAN
■ पैग़ाम
■ पैग़ाम
*Author प्रणय प्रभात*
तेरे बिना
तेरे बिना
Shekhar Chandra Mitra
=*तुम अन्न-दाता हो*=
=*तुम अन्न-दाता हो*=
Prabhudayal Raniwal
मेरा जो प्रश्न है उसका जवाब है कि नहीं।
मेरा जो प्रश्न है उसका जवाब है कि नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
हाइकु कविता- करवाचौथ
हाइकु कविता- करवाचौथ
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जनरेशन गैप / पीढ़ी अंतराल
जनरेशन गैप / पीढ़ी अंतराल
नन्दलाल सिंह 'कांतिपति'
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दास्तां-ए-दर्द
दास्तां-ए-दर्द
Seema 'Tu hai na'
तेरी मुस्कराहटों का राज क्या  है
तेरी मुस्कराहटों का राज क्या है
Anil Mishra Prahari
✍️अश्क़ का खारा पानी ✍️
✍️अश्क़ का खारा पानी ✍️
'अशांत' शेखर
ज़िंदगी कब उदास करती है
ज़िंदगी कब उदास करती है
Dr fauzia Naseem shad
शिखर पर पहुंचेगा तू
शिखर पर पहुंचेगा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
2273.
2273.
Dr.Khedu Bharti
घर
घर
Dr MusafiR BaithA
काफ़िर का ईमाँ
काफ़िर का ईमाँ
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
दूर ...के सम्बंधों की बात ही हमलोग करना नहीं चाहते ......और
दूर ...के सम्बंधों की बात ही हमलोग करना नहीं चाहते ......और
DrLakshman Jha Parimal
चाटुकारिता
चाटुकारिता
Radha shukla
माँ
माँ
विशाल शुक्ल
"प्रेम के पानी बिन"
Dr. Kishan tandon kranti
आओ चलें नर्मदा तीरे
आओ चलें नर्मदा तीरे
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
१.भगवान  श्री कृष्ण  अर्जुन के ही सारथि नही थे वे तो पूरे वि
१.भगवान श्री कृष्ण अर्जुन के ही सारथि नही थे वे तो पूरे वि
Piyush Goel
Loading...