Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Oct 30, 2016 · 1 min read

क्या सोचा है तुमने,

क्या सोचा है तुमने,
आज दिवाली क्यूँ मना रहे ।
ऐसी कौन सी विजय मिली,
जो दीप खुशी का जला रहे ।।
क्या सोचा है तुमने,

अरमान किसी के टूट रहे,
बिखर रहे हैं सपने ।
दुश्मन के नापाक इरादों से,
छूट रहे हैं अपने ।।
क्या सोचा है तुमने,

हां हम भी दीप जलाएगे
जब असल विजय हम पाएंगे
न होगी दहशत दिल में
ऐसी दिवाली हम मनाएंगे
क्या सोचा है तुमने,

– सोनिका मिश्रा

2 Likes · 400 Views
You may also like:
पिता का सपना
Prabhudayal Raniwal
जाने क्या-क्या ? / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
*!* "पिता" के चरणों को नमन *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
"भोर"
Ajit Kumar "Karn"
✍️गलतफहमियां ✍️
Vaishnavi Gupta
ऐ मातृभूमि ! तुम्हें शत-शत नमन
Anamika Singh
रुक-रुक बरस रहे मतवारे / (सावन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
परखने पर मिलेगी खामियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा
श्री रमण 'श्रीपद्'
वेदों की जननी... नमन तुझे,
मनोज कर्ण
जिस नारी ने जन्म दिया
VINOD KUMAR CHAUHAN
सोलह शृंगार
श्री रमण 'श्रीपद्'
सत्य कभी नही मिटता
Anamika Singh
''प्रकृति का गुस्सा कोरोना''
Dr Meenu Poonia
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
आकाश महेशपुरी
"अष्टांग योग"
पंकज कुमार कर्ण
✍️कश्मकश भरी ज़िंदगी ✍️
Vaishnavi Gupta
ज़िंदगी को चुना
अंजनीत निज्जर
मां की ममता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अनमोल जीवन
आकाश महेशपुरी
आपको याद भी तो करते हैं
Dr fauzia Naseem shad
पिता तुम हमारे
Dr. Pratibha Mahi
कण-कण तेरे रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
ऐ ज़िन्दगी तुझे
Dr fauzia Naseem shad
अब आ भी जाओ पापाजी
संदीप सागर (चिराग)
गरम हुई तासीर दही की / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️पढ़ना ही पड़ेगा ✍️
Vaishnavi Gupta
जिन्दगी का जमूरा
Anamika Singh
पिता
नवीन जोशी 'नवल'
इंसानियत का एहसास भी
Dr fauzia Naseem shad
Loading...