Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 8, 2022 · 1 min read

क्या लिखूं मैं मां के बारे में

जितना सोचता हूं, उतना ही समझ पाता हूं
जितना समझता हूं, उतना ही डूब जाता हूं
अल्फ़ाज़ कम पड़ जाते है, जब मां पर लिखता हूं
क्या लिखूं मैं मां के बारें में
मैं तो खुद को, उसकी ही लिखावट पाता हूं…
– कृष्ण सिंह
Happy Mother’s Day
(मां को समर्पित चंद अल्फाज)

2 Likes · 72 Views
You may also like:
यादें वो बचपन के
Khushboo Khatoon
रेलगाड़ी- ट्रेनगाड़ी
Buddha Prakash
अरविंद सवैया
संजीव शुक्ल 'सचिन'
माँ
संजीव शुक्ल 'सचिन'
*साधुता और सद्भाव के पर्याय श्री निर्भय सरन गुप्ता :...
Ravi Prakash
दुनिया की रीति
AMRESH KUMAR VERMA
जगाओ हिम्मत और विश्वास तुम
gurudeenverma198
शहर को क्या हुआ
Anamika Singh
रे बाबा कितना मुश्किल है गाड़ी चलाना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
शायद मुझसा चोर नहीं मिल सकेगा
gurudeenverma198
तरबूज का हाल
श्री रमण
गुरुजी!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
पत्ते ने अगर अपना रंग न बदला होता
Dr. Alpa H. Amin
हस्यव्यंग (बुरी नज़र)
N.ksahu0007@writer
जल की अहमियत
Utsav Kumar Aarya
नारी को सदा राखिए संग
Ram Krishan Rastogi
रामायण आ रामचरित मानस मे मतभिन्नता -खीर वितरण
Rama nand mandal
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
Jyoti Khari
पृथ्वी दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बदला
शिव प्रताप लोधी
सेतुबंध रामेश्वर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️मैं एक मजदुर हूँ✍️
"अशांत" शेखर
💐💐प्रेम की राह पर-19💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
【 23】 प्रकृति छेड़ रहा इंसान
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मिसाइल मैन
Anamika Singh
वह माँ नही हो सकती
Anamika Singh
(((मन नहीं लगता)))
दिनेश एल० "जैहिंद"
जेष्ठ की दुपहरी
Ram Krishan Rastogi
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण
Loading...